लखनऊ। विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा की विवादित लव स्टोरी के मामले में रोज नई- नई कहानियां सामने आ रही है। ताजा जानकारी जो सामने आई है वह यह है कि राजनीतिक साजिश के तहत साक्षी मिश्रा और अजितेश की विवादित लव स्टोरी की स्क्रिप्ट लिखी गई थी, ताकि राजेश मिश्रा को बदनाम किया जा सके। यह स्क्रिप्ट बीजेपी के 2 कद्दावर नेताओं के यहां लिखी गई थी।

आखिर क्या थी वजह जिससे बदनाम हुए राजेश मिश्रा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राजेश मिश्रा की करीब दो महीने पहले अपने ही खास आदमी और ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी रह चुके गौरव सिंह अरमान से विवाद हुआ था। इसके बाद विधायक ने उसे भगा दिया था। इसके बाद से ही गौरव सिंह अरमान विधायक से अपना बदला लेना चाहता था।

गौरव सिंह अरमान । फोटो सौजन्य सोशल मीडिया
गौरव सिंह अरमान । फोटो सौजन्य सोशल मीडिया

गौरव सिंह अरमान ने विधायक राजेश मिश्रा के खिलाफ बीजेपी के कद्दवार नेताओं के साथ इस पूरी साजिश को अंजाम दिया। कॉल डिटेल, लोकेशन और कुछ लोगों के बयानों से इसकी पुष्टि हो चुकी है। अजितेश को तीन से पांच जुलाई के बीच एक शख्स ने दो चार बार नहीं बल्कि पचास से ज्यादा बार कॉल किया। यह कॉल ब्लाक प्रमुख प्रत्याशी रहे गौरव सिंह अरमान ने किया था। वहीं लोगों के मुताबिुक ने तीनों को एक साथ बैठे, गाड़ियों से आते जाते देखा है। इसके अलावा उस दौरान की उनकी कॉल डिटेल से भी उनके चेहरे बेनकाब हो गए हैं।

क्या था राजेश मिश्रा और अरमान के बीच का विवाद

दरअसल दोनों के बीच इस विवाद की शुरुआत करीब दो महीने पहले हुई थी। पूर्व में विधायक का खास आदमी रह चुका गौरव सिंह अरमान कोटे की ब्लैक मार्केटिंग और अवैध खनन का धंधा करता था। यह सब वह विधायक के नाम पर करता था। इस बात पता चलते ही विधायक के कार्यालय पर दोनों के बीच कहासुनी हुई इस दौरान विधायक ने उसे अपने कार्यालय से डाट कर भगा दिया था। इसी बात का वह नाराज हुआ और विधायक से अपने अपमान का बदला लेने की ठान ली।

इसे भी पढ़ें UP : IAS से बेटी की शादी कराना चाहते थे विधायक पिता, पति की टूट चुकी है सगाई

ये है MLA की बेटी के पति की इनसाइड स्टोरी, अय्याशी करने के थे ऐसे- ऐसे शौक
लड़कियों को मालिनी अवस्थी की सलाह- बोलीं- जीवन साथी चुनो मगर पिता को...

विधायक से नाराज नेताओं के पास पहुंचा अरमान

अपने अपमान का बदला लेने के लिए गौरव बीजेपी के दो कद्दावर नेताओं से मुलाकात की। पहले तो विधायक को दूसरे तरीकों से हानि पहुंचाने पर विचार किया गया, लेकिन बात नहीं बनी। विधायक के गर्व पर चोट कर उनकी राजनीति को नुकसान पहुंचाने की रणनीति तय की गई।