नई दिल्ली : कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद पर जहां एक और कई नेता किसी युवा नेता को सुनना चाहते हैं वहीं कुछ नेताओं की राय यह है कि पार्टी को किसी वरिष्ठ नेता को यह जिम्मेदारी देनी चाहिए जिससे कि पार्टी में किसी भी प्रकार का विरोधाभास ना हो सके।

पार्टी के कुछ नेताओं का मानना है कि अगर कांग्रेस पार्टी को सही तरीके से एक साथ लेकर चलना है तो किसी वरिष्ठ नेता को कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनाकर उनके नीचे चार नए युवाओं को वर्किंग प्रेसिडेंट की जिम्मेदारी दे दी जाए। चार युवा वर्किंग प्रेसिडेंट के रूप में अध्यक्ष के नीचे काम करेंगे।

इसके लिए सबसे बेहतर दावेदार के रूप में पार्टी पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को आगे करने का मन बना रही है। इसके लिए कई नेता दबी जुबान से समर्थन भी कर रहे हैं, क्योंकि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एक ऐसे उम्मीदवार हैं जिनके विरोध में कोई भी खड़ा नहीं हो सकता और ना ही कोई इनका खुलकर विरोध कर सकता है।

सोनिया गांधी के साथ पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह
सोनिया गांधी के साथ पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह

स्वच्छ और साफ छवि के साथ-साथ इनके पास बड़ा राजनीतिक और सांगठनिक अनुभव भी है । इतना ही नहीं यह गांधी नेहरू परिवार की काफी वफादार सिपाही भी माने जाते रहे हैं। इसलिए इनके नाम पर आम सहमति बनाई जा सकती है।

हालांकि पार्टी नेताओं का एक वर्ग ऐसा भी है जो मनमोहन सिंह की उम्र को देखते हुए उनके नाम को आगे बढ़ाने से परहेज करता नजर आ रहा है। उनका दावा है कि मनमोहन सिंह की उम्र तकरीबन 86 साल की है। कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में उन्हें कई राज्यों के दौरे करने पड़ेंगे और जन सभाओं को भी संबोधित करना पड़ेगा जो उनकी सेहत के हिसाब से उचित नहीं है। अगर वह ऐसा नहीं कर पाए तो उन्हें एक बार फिर रबर स्टैंप वाला कांग्रेसी अध्यक्ष माना जाएगा, जो नेहरू गांधी परिवार की हाथ की कठपुतली मात्र है।

इसके पहले भी विरोधी दल के लोग मनमोहन सिंह को के नाम मात्र का प्रधानमंत्री बताते रहे हैं और उनका रिमोट सोनिया गांधी के हाथ में बताया जाता रहा है। ऐसी स्थिति में अगर मनमोहन सिंह को कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनाया जाता है तो भारतीय जनता पार्टी को उनके ऊपर हमला करने का एक और मौका मिलेगा।

इसीलिए पार्टी का एक धड़ा महासचिव मुकुल वासनिक, गुलाम नबी आजाद, मोतीलाल वोरा, अशोक गहलोत, सुशील कुमार शिंदे, मल्लिकार्जुन खड़गे जैसे नामों की पैरवी कर रहा है। अब देखना यह है कि कांग्रेस पार्टी किस तरह का अध्यक्ष चुनती है।

आपको बता दें कि पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ कर्ण सिंह ने जल्द से जल्द कांग्रेस पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष चुनने का सुझाव दिया था और 4 जोन के लिए चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाने की बात कही थी।