मुंबई: कर्नाटक कांग्रेस के 'संकटमोचक' माने जाने वाले डीके शिवकुमार को मुंबई में असहज स्थिति का सामना करना पड़ा। दरअसल वे जेडीएस विधायक शिवलिंगे गौड़ा और कुछ अन्‍य कांग्रेस नेताओं के साथ नाराज विधायकों से मिलने के लिए मुंबई पहुंचे थे। मुंबई के एक होटल में शिवकुमार मुख्यद्वार पर पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया। दरअसल इसी होटल में कर्नाटक के दस कांग्रेस के विधायक ठहरे हुए हैं। पुलिस ने शिवकुमार को सूचना दी कि इन विधायकों पर खतरा है लिहाजा ये किसी से नहीं मिलना चाहते हैं।

वहीं शिवकुमार ने पुलिस के सामने दलील दी कि होटल में उन्होंने कमरा बुक कर रखा है लिहाजा पुलिस उन्हें नहीं रोक सकती है। शिवकुमार ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उनके साथी विधायकों से मामूली मतभेद है जिसे वे बातचीत कर हल करना चाहते हैं। शिवकुमार ने दावा किया कि किसी को धमकी देने का उनका कोई इरादा नहीं है। मजे की बात ये कि बागी विधायकों ने कर्नाटक कांग्रेस के संकटमोचक शिवकुमार से मिलने से साफ मना कर दिया।

यह भी पढ़ें:

कर्नाटक संकट से निपटने के लिए बेंगलुरु जाएंगे कांग्रेस के ये नेता, विधायकों को करेंगे एकजुट

इस बीज डीके शिवकुमार के खिलाफ बीजेपी और जेडीएस नेता नारायण गौड़ा के समर्थकों ने नारेबाजी भी की। माना जा रहा है कि कर्नाटक के कुछ और दिग्गज नेता मुंबई की तरफ रुख कर रहे हैं

एक अलग घटनाक्रम में कांग्रेसी और जेडीएस के बागी नेताओं ने मुंबई पुलिस कमिश्नर को चिट्ठी लिखकर खुद की जान पर खतरा बताया है। उनकी गुजारिश को देखते हुए मुंबई पुलिस ने होटल के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी है।

मुंबई पुलिस आधिकारिक तौर पर साफ कर चुकी है कि किसी भी हालत में डीके शिवकुमार को होटल में वहां नहीं जाने दिया जाएगा जहां पर 10 विधायक ठहरे हुए हैं। मुंबई पुलिस की सख्ती पर भावुक होते हुए शिवकुमार ने कहा, "हम राजनीति में साथ पैदा हुए हैं। हम राजनीति में साथ मरेंगे। वे हमारे पार्टी कार्यकर्ता हैं। हम उनसे मिलने आए हैं।"