नई दिल्ली : कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ. कर्ण सिंह ने कांग्रेस पार्टी के आलाकमान को एक बेहतरीन सुझाव दिया है। उन्होंने कहा है कि पार्टी का एक अंतरिम अध्यक्ष चुन लेने के बाद चार जोनों के लिए चार अध्यक्ष बनाए जाएं।

इतना ही नहीं कर्ण सिंह ने यह भी कहा है कि कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में कराई जाए और पार्टी पूरब, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण के हिसाब से चार जोन के लिए चार कार्यकारी अध्यक्ष चुनना चाहिए।

आपको बता दें कि वरिष्ठ नेता करण सिंह ने चिट्ठी लिखकर कांग्रेस कार्यसमिति से इस बात की अपील की है उन्होंने कहा है कि जल्द से जल्द कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाई जानी चाहिए और पार्टी में एक अंतरिम का चर्च के साथ-साथ 4 वर्किंग प्रेसिडेंट बनाए जाने चाहिए।

सिंह ने कहा, ‘‘मेरी राय में अध्यक्ष के साथ चार कार्यकारी अध्यक्ष/उपाध्यक्ष बनाए जाएं जिन्हें उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम का उत्तरदायित्व दिया जाए।'' पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि फैसले में जितनी देरी होगी उतना ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं एवं मतदाताओं के हौसले पस्त होंगे। बहुत देर होने से पहले जरूरी फैसले कर लिए जाएं।

इसे भी पढ़ें :

गांधी परिवार के बिना चुना जाएगा नया अध्यक्ष, इनको मिलेगी कांग्रेस प्रेसीडेंट की कुर्सी

कांग्रेस अध्यक्ष के लिए ये 2 नेता हैं सबसे प्रबल दावेदार, जानें किसके सिर सज सकता है ताज

कर्णसिंह द्वारा लिखा पत्र
कर्णसिंह द्वारा लिखा पत्र

आप इस चिट्ठी में खुद देख सकते हैं कि करण सिंह ने कैसे कांग्रेश के नेताओं से अपने दिल की बात कही है और कांग्रेस को मजबूत करने के लिए एक महत्वपूर्ण सुझाव दिया है।

कर्ण सिंह ने एक बयान में यह भी कहा कि 25 मई को गांधी के इस्तीफे की पेशकश करने के बाद पार्टी में जो ‘‘असमंजस'' की स्थिति पैदा हुई उससे वह ‘‘क्षुब्ध'' हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा आग्रह है कि बिना देर किए कार्य समिति की बैठक बुलाई जाए और आवश्यक निर्णय किए जाएं। हो सके तो यह बैठक मनमोहन सिंह की अगुवाई में हो। इन निर्णयों में नए अध्यक्ष के चुने जाने तक अस्थायी अध्यक्ष के चयन का निर्णय भी शामिल होगा।''

इसे भी पढ़ें :

अमरिंदर सिंह ने बताई कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अपनी पसंद, दिग्गजों को लगेगा झटका

कांग्रेस पार्टी कर रही है एक ऐसे अध्यक्ष की तलाश, जिसमें हों ये 5 खासियत

गौरतलब है कि गांधी ने पिछले दिनों अपने इस्तीफे की औपचारिक घोषणा की और नए अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया से खुद को अलग कर लिया। इसके बाद से अब तक सीडब्ल्यूसी की बैठक को लेकर कोई फैसला नहीं हो पाया है।