अयोध्या : शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे रविवार को अयोध्या पहुंचे जहां उन्होंने अपनी पार्टी के 18 नवनिर्वाचित सांसदों के साथ अस्थायी रामलला मंदिर में पूजा-अर्चना की। अपने पुत्र आदित्य के साथ आज सुबह यहां पहुंचे ठाकरे ने अपनी पार्टी के सांसदों से मुलाकात की जो शनिवार को ही यहां पहुंच गए थे।

सांसदों से मुलाकात के बाद उन्होंने अस्थायी मंदिर में पूजा की। उद्धव ठाकरे ने संवाददाताओं से भी बात की। महाराष्ट्र में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव हैं।

रामलला के दर्शन के बाद उद्धव ठाकरे ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि हमने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की बात पर ही भाजपा के साथ गठबंधन किया था। अब जब देश में पूर्ण बहुमत की सरकार है, ऐसे में मंदिर निर्माण की बात भी आगे बढ़नी चाहिए।

ठाकरे ने कहा कि राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द करना होगा। सरकार को राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिवसेना के 18 सांसद सदन में जाने के पहले रामलला का दर्शन कर नई पारी की शुरुआत करेंगे।

ठाकरे की अयोध्या यात्रा को राम मंदिर मुद्दे को लेकर भाजपा पर दबाव बनाने की शिवसेना की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। हालांकि शिवसेना ने कहा है कि ठाकरे के दौरे को चुनावी नजरिये से नहीं देखा जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें :

शिवसेना ने सार्वजनिक स्थानों पर की बुर्का पर बैन लगाने की मांग

शिवसेना बोली- मध्यस्थता से हल नहीं होगा अयोध्या विवाद, अध्यादेश की जरूरत

पार्टी के नेता संजय राउत ने शनिवार को कहा कि ठाकरे ने नवंबर में कहा था कि वह चुनाव के बाद पुन: अयोध्या आयेंगे। इसी वजह से वह यहां आए हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गत शुक्रवार को पूजा करने के लिए अस्थायी रामलला मंदिर पहुंचे थे।

लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद उनकी यह यात्रा विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण के लिए समर्थन दोहराने पर केंद्रित थी। राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद स्थल को लेकर उच्चतम न्यायालय में मामले की सुनवाई चल रही है।