मुंबई : राकांपा प्रमुख शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घर में घुसकर मारने वाली टिप्पणी की रविवार को आलोचना करते हुए कहा कि आतंकवादियों के खिलाफ कश्मीर में कार्रवाई हुई थी, न कि यह कार्रवाई पाकिस्तान में हुई थी।

उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक संप्रदायवाद ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को राजनीतिक रूप से लाभ पहुंचाया है। उन्होंने अगाह करते हुए कहा कि किसी एक समुदाय का किसी दूसरे समुदाय के खिलाफ होना देश के सामाजिक सौहार्द के लिए खतरनाक है।

लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था, हम आतंकवादियों को उनके घर में घुसकर मारेंगे।''

इसे भी पढ़ें :

चुनावी राजनीति का मोह छोड़ नहीं पा रहे शरद पवार, इस बार मढ़ा से लड़ेंगे चुनाव

मोदी की यह टिप्पणी भारतीय वायुसेना द्वारा जैश-ए-मोहम्मद के शिविर पर पाकिस्तान के बालाकोट में की गई कार्रवाई के बाद आई थी।

भारत ने यह कार्रवाई जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले के बाद की थी। पुलवामा हमले में 40 जवान शहीद हुए थे। पवार अपने कार्यालय से फेसबुक लाइव चैट के जरिए जनता से बात कर रहे थे।

उन्होंने कहा, यह हमला पाकिस्तान में नहीं हुआ था, बल्कि कश्मीर में हुआ था और कश्मीर भारत का हिस्सा है।''