पटना : बिहार के सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में आज जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसला लिया। जदयू अब बिहार से बाहर एनडीए का हिस्सा नहीं रहेगी।

जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में फैसला लिया गया है कि पार्टी आने वाले समय में 4 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी। पार्टी ने यह फैसला दिल्ली, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर और झारखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखकर लिया गया। इसके अलावा बैठक में पार्टी का विस्तार करने और संगठन को मजबूत करने को लेकर चर्चा हुई।

जानकारी के मुताबिक बैठक में नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में एनडीए के तमाम घटक दलों में एकजुटता है और इसी का नतीजा है कि लोकसभा चुनाव में एनडीए को बंपर जीत मिली है लेकिन इन परिणामों के साथ ही हमें अपनी पार्टी का देश के दूसरे राज्यों में भी विस्तार करना है।

इसे भी पढ़ें :

बिहार में उठी इस भाजपा नेता को मुख्यमंत्री बनाने की मांग, गर्म हुई सियासत

लोकतांत्रिक व्यवस्था में कोई ‘बड़ा भाई’ नहीं होता, सभी बराबर : जदयू

बताया जा रहा है कि मोदी के मंत्रिडल में जदयू के शामिल न होने को लेकर भी बैठक में चर्चा हुई। एनडीए में भाजपा की सहयोगी जदयू के कोटे से किसी भी मंत्री ने मोदी के साथ मंत्री पद की शपथ नहीं ली थी। भाजपा ने एक मंत्री पद की पेशकश की थी। हालांकि, जदयू का कहना था कि वह सिर्फ प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व नहीं चाहती।