पटना: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने लोकसभा चुनाव में मिले निराशाजनक नतीजों के बाद आगामी विधानसभा चुनाव के लिए कमर कस ली है। सूत्रों के मुताबिक जदयू नेता और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी से मुलाकात की है।

पश्चिम बंगाल में साल 2021 में विधानसभा चुनाव होने वाला है। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच डील की चर्चा है। जिसके तहत अब प्रशांत ममता बनर्जी के लिए काम करेंगे।

इससे पहले प्रशांत किशोर ने आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के लिए उम्दा रणनीति तैयार की। माना जाता है कि उनके सटीक सुझावों और YS जगन मोहन रेड्डी की कड़ी मेहनत के बूते आंध्र प्रदेश में YSRCP सत्ता पर काबिज हुई।

यह भी पढ़ें:

प्रशांत किशोर फिर बने ‘हीरो’, आंध्र के नतीजों ने साबित किया सफल रणनीतिकार

प्रशांत किशोर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए भी सन् 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान काम कर चुके हैं। उस वक्त भी बीजेपी को बड़ी कामयाबी हासिल हुई थी। इससे पहले बिहार में विधानसभा चुनाव के दौरान राजद-जदयू के बीच गठजोड़ कराने का श्रेय भी प्रशांत को ही जाता है। उनके सुझाव के बाद इस गठबंधन ने बड़ी कामयाबी हासिल की थी।

अब देखना है कि प्रशांत किशोर एक बार फिर अपनी सफलता का परचम पश्चिम बंगाल में लहराएंगे या फिर ममता बनर्जी के लिए वे अनलकी साबित होंगे? सियासी जानकारों की मानें तो पश्चिम बंगाल में प्रशांत किशोर को बीजेपी के तमाम दांव पेंचों से सामना करना पड़ेगा। जो उनके लिए किसी चुनौती से कम नहीं है।