लखनऊ। उत्तर प्रदेश के भीतर लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त मिलने के बाद समाजवादी पार्टी को फिर से खड़ा करने और संगठन को मजबूत करने के लिए मुलायम ने अखिलेश यादव को नसीहत दी है। मुलायमसिंह यादव ने अखिलेश से साफ तौर पर कहा है कि पार्टी की हार की वजह जनता से दूरी है। अगर संगठन को मजबूत करना है तो फिर पार्टी में पुराने नाताओं की वापसी होनी चाहिए।

बता दें कि लोकसभा में महागठबंधन को करारी शिकस्त मिलने के बाद सपा सुप्रीमों काफी परेशान दिख रहे हैं। हार के बाद अखिलेश यादव ने पार्टी के सभी प्रवक्ताओं को टीवी डिवेट में जाने पर रोक लगा दिया है। दरअसल महागठबंधन की बदौलत सपा सुप्रीमो को यूपी में 55 से 60 सीटों की उम्मीद थी, लेकिन रिजल्ट आशा के विपरीत रहे और पार्टी को साल 2014 की तरह महज 5 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा है। इतना ही नही पार्टी के कई दिग्गज नेताओं को भी चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है। इसमें खुद सपा सुप्रीमो की पत्नी डिंपल यादव कन्नौज से बदायूं से धर्मेंद्र यादव और फिरोजाबाद से अक्षय को भी शिकस्त झेलनी पड़ी है।

शिवपाल को दोबारा पार्टी में लाना चाहते हैं मुलायम

खबर यह भी है कि मुलायम सिंह शिवपाल को दोबारा पार्टी ज्वाइन कराना चाहते हैं, लेकिन मुलायम के इस फैसले के खिलाफ अखिलेश पहले की ही तरह एकदम अड़े हुए हैं। वे नहीं चाहते कि शिवपाल दोबारा पार्टी ज्वाइन करें। शिवपाल को दोबारा पार्टी में लाने के पीछे की मुलायम की मंशा यह है कि शिवपाल की सांगठनिक क्षमता काफी मजबूत है। वहीं दूसरी ओर हार के बाद मुलायम और शिवपाल के मुलाकात की खबरें भी निकलकर सामने आ रही हैं। बताया जा रहा है मुलायम और शिवपाल की मुलाकात के दौरान पार्टी की हार को लेकर चर्चा भी हुई है।

इसे भी पढ़ें : सपा-बसपा गठबंधन पर अमर सिंह का तंज, कहा- बुआ-बबुआ की दोस्ती के बीच गुम हुए मुलायम

3 जून को आजमगढ़ में जनसभा को संबोधित करेंगे अखिलेश

खबरों की मानें तो सपा सुप्रीमों 3 जून को आजमगढ़ जा रहे है। इस दौरान वे वहां की जनता द्वारा दी गई जीत के लिए जनता का अभार व्यक्त करेगे। इसके बाद वे गाजीपुर के दौरे पर भी जाएंगे।