नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से प्रियंका गांधी वाड्रा ने मुलाकात की है। बताया जा रहा है कि चुनावी नतीजों को देखते हुए दोनों ही नेताओं की मुलाकात हुई है। कुछ ही देर में राहुल गांधी कांग्रेस मुख्यालय पहुंचेंगे।

अब तक के रुझानों के मुताबिक, यूपीए 100 से अधिक सीटों पर आगे चल रही है। पिछले बार के मुकाबले इस बार यूपीए के प्रदर्शन में सुधार हुआ है और लगभग 40 सीटों का इजाफा दिख रहा है।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में भाजपा के दोबारा वापसी के संकेत मिल रहे हैं क्योंकि मतगणना के रुझानों में भाजपा 269 सीटों में और कांग्रेस 51 सीटों पर आगे चल रही है। चुनाव आयोग ने 542 सीटों में से 495 सीटों के रुझान जारी किए है।

चुनाव आयोग के अनुसार देश में सात चरणों में हुए चुनाव में द्रमुक 20 सीटों पर, जद (यू) 15 सीटों पर, तृणमूल कांग्रेस 20 सीटों पर, बसपा 12 सीटों पर और उसकी सहयोगी समाजवादी पार्टी आठ सीटों पर आगे चल रही है।

टेलीविजन चैनल भाजपा को 320 सीटों पर आगे दिखा रहे हैं। शुरुआती रुझानों में नरेन्द्र मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने के संकेत मिलने के साथ ही देश भर में भाजपा के पार्टी कार्यालयों में जश्न की खबरें हैं।

ये भी पढ़ें: ये बोलते हैं तारे और सितारे, बदल सकती है राहुल-मोदी की किस्मत

दिलचस्प बात यह है कि सत्तारूढ़ दल की बढ़त के संकेत एग्जिट पोल के नतीजों से मेल खा रहे हैं। जिसमें भाजपा नीत राजग को सरकार बनाने के लिए बहुमत के आंकड़े से कहीं अधिक सीटें मिलना बताया गया था। आयोग ने देश में 4000 से अधिक मतगणना केन्द्र बनाये हैं। मतगणना केन्द्रों से प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र के निर्वाचन अधिकारी ऑनलाइन सिस्टम के जरिये मतगणना के रुझानों को अपडेट करेंगे।

इस बीच चुनाव आयोग ने चुनाव परिणाम घोषित होने में देर होने की आशंका से बचने के लिये इस बार डाक मतपत्रों और ईवीएम के मतों की गिनती एक साथ कराने का फैसला किया है। उल्लेखनीय है कि इस चुनाव में पंजीकृत 90.99 करोड़ मतदाताओं में से करीब 67.11 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। भारतीय संसदीय चुनाव में यह अब तक का सर्वाधिक मतदान है।

लोकसभा चुनाव में पहली बार इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के परिणामों का मिलान पेपर ट्रेल मशीनों से निकलने वाली पर्चियों से किया जाएगा। यह मिलान प्रति विधानसभा क्षेत्र में पांच मतदान केंद्रों में होगा।

ये भी पढ़ें: Lok Sabha Election Results 2019 Live Updates :  देश में एक बार फिर मोदी सरकार, यूपीए 100 के पार

मतगणना से एक दिन पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हिंसा की आशंका के मद्देनजर बुधवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अलर्ट कर दिया । मंत्रालय का कहना है कि कुछ पक्षों द्वारा किए गए हिंसा भड़काने के कथित आह्वान को देखते हुए यह कदम उठाया गया है। मंत्रालय ने एक बयान में यह भी कहा कि उसने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कानून एवं व्यवस्था तथा शांति बनाये रखने के लिए कहा है।