पटना : रालोसपा प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से 37 पर राजग की बढ़त पर कहा कि जनता का निर्णय सर आंखों पर है। कुशवाहा ने मंगलवार को महागठबंधन के नेताओं के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन कर बयान दिया था कि अगर राजग जनमत के साथ छेड़छाड़ करता है तो 'जनाक्रोश के कारण खून की नदियां बह सकती हैं।'

उन्होंने ईवीएम से छेड़छाड़ का संदेह जताते हुए यह बयान दिया था। कुशवाहा सात घंटे पूर्व तक अपने उक्त बयान पर कायम थे। हालांकि मतगणना में राजग को बड़ी बढ़त मिलने के बाद रालोसपा नेता ने ट्वीट कर कहा, ''जनता का निर्णय सर आंखों पर। महागठबंधन के लिए किसी पर आरोप लगाने के बजाए आत्म-मंथन करने का समय है।''

उन्होंने कहा ''यह जीत किसी उम्मीदवार या राज्य सरकार में सत्तासीन नेताओं की नहीं, बल्कि जनता की नब्ज़ को विपक्ष के नेताओं द्वारा सही तरीके से नहीं समझ पाने का नतीजा है''। कुशवाहा ने कहा ''आगे की लड़ाई के लिए चुनाव परिणाम की समीक्षा करते हुए ठोस और गंभीर रणनीति की आवश्यकता है। बिना समय गंवाये हमें इस ओर बढ़ना है।''

यह भी पढ़ें :

लोकसभा रुझान: बिहार में लहराया एनडीए का परचम, राजद गठबंधन औंधे मुंह

बिहार में महागठबंधन की धमकी, नतीजों में हुई गड़बड़ी तो बहा देंगे खून की नदियां

सात घंटे पहले कुशवाहा ने एग्जिट पोल के आंकडे़ पर अपनी दी गयी प्रतिक्रिया को सही ठहराते हुए सात घंटे पूर्व कहा था ''मैं अपने बयान पर कायम हूँ। लोकतंत्र में जनमत की लूट का अधिकार किसी को भी नही है और अपने मतों की रक्षा करने का संवैधानिक अधिकार सबको है जिसे कोई छीन नहीं सकता, कोई भी नहीं ।"

कुशवाहा काराकाट और उजियारपुर सीटों से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं और अब तक के रुझानों के मुताबिक वह दोनों सीटों से पीछे चल रहे हैं।