हैदराबाद : लोकसभा चुनाव 2019 का आखिरी पड़ाव 23 मई को है। अब तक की चुनाव प्रक्रिया में विभिन्न राजनीतिक दलों ने चुनाव प्रचार के माध्यम से लोगों के मत बटोरने का प्रयास किया। अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने के लिए नेतागणों ने रैलियां व जनसभाएं आयोजित की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लोकसभा चुनाव 2019 के लिए प्रचार अभियान 28 मार्च से शुरू हुआ और 17 मई को खरगोन में खत्म हुआ। प्रचार अभियान के अंतर्गत पीएम मोदी के 4 रोड़ शो हुए और आखिरी दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुये। उन्होंने 50 दिन के लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान में 142 रैलियां कीं। उन्होंने ज्यादातर उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और ओडिशा की 143 सीटों के लिए चुनाव प्रचार किया। उन्होंने 54 जनसभाएं कीं। उन्होंने उत्तर प्रदेश में 29 , पश्चिम बंगाल में 17 व ओडिशा में 8 रैलियां कीं। पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रचार अभियान में 196 सीटों वाले इन छङ राज्यों में 50 रैलियां की। उन्होंने पूर्वोत्तर राज्यों में 8, झारखंड में 4, तमिलनाडू, पंजाब, हरियाणा और छत्तीसगढ़ में 3-3, तेलंगाना, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश, जम्मू कश्मीर व केरल में 2-2 रैलियां कीं। पीएम मोदी ने दिल्ली और गोवा में एक-एक रैली की।

राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने प्रचार अभियान के अंतर्गत करीब 150 रैलियां और रोड़ शो करने के साथ प्रेस वार्ताएं कर अपनी पार्टी का नजरिया जनता के सामने रखा। राहुल गांधी ने पूरे देश में अपना चुनाव अभियान चलाया। सीट औसत के मुताबिक उनका दौरा बिहार में सबसे ज्यादा रहा। महागठबंधन के चलते कांग्रेस लोकसभा की 40 सीटो में सिर्फ 9 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश में अपने चुनावी प्रचार अभियान शुरू किया। उन्होंने 11 दौरे किये। उनकी उत्तर प्रदेश में ही आखिरी जनसभा 16 मई को हुई।

इसे भी पढ़ें :

दोबारा सत्ता में आते ही पीएम मोदी लेंगे ये बड़े फैसले, आप भी हो जाएं तैयार

देवेन्द्र फड़णवीस बोले : राहुल गांधी ‘पार्ट टाइम’ नेता तो मोदीजी 24 घंटे गरीबों के बारे में सोचने वाले

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने राज्य में लोकसभा चुनाव के लिए सबसे अधिक रैलियां की। उनका नाम नेताओं में शीर्ष पर है। सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना के लिए 87 रैलियां की। राकंपा नेता धनंजय मुंडे 80 रैलियां कर दूसरे स्थान पर हैं। फड़णवीस व मुंडे दोनों की उम्र लगभग 40 वर्ष के आसपास है। 79 वर्ष के रांकापा के सुप्रीमो शरद पवार 78 रैलियों को संबोधित करने के साथ तीसरे नंबर पर हैं। राज्य में लोकसभा की 48 सीटें हैं।