पटना : एग्जिट पोल के नतीजे आने के साथ सियासत की रंगत बदलती जा रही है। बिहार में एनडीए को बड़ी जीत मिलने के संकेत हैं। जीत से उत्साहित भाजपा के नेताओं ने अभी से ही बयानबाजी शुरू कर दी है। यह बयानबाजी अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए सिरदर्द बनती जा रही है।

तमाम एग्जिट पोल के अनुसार बिहार में भाजपा का जनाधार बढ़ा है। राज्य में भाजपा की मजबूत स्थिति पर अब बिहार के एमएलसी सच्चिदानंद राय ने मांग की है कि राज्य में मुख्यमंत्री भी भाजपा का होना चाहिए। उन्होंने नीतीश कुमार के स्थान पर भाजपा के किसी नेता को मुख्यमंत्री बनाने की मांग की है।

सच्चिदानंद राय ने कहा है कि बिहार में जनता ने नरेंद्र मोदी के चेहरे पर वोट दिया है। राज्य में भाजपा की लोकप्रियता लगातार बढ़ रही है। ऐसे में अब भाजपा का मुख्यमंत्री होना चाहिए।

यह भी पढ़ें :

क्या सच में तेजस्वी नहीं चाहते लालू जेल से बाहर आएं, आखिर क्यों

ज्योतिषों की यह गणना है सही तो एक बार फिर गलत साबित होंगे Exit Polls !

सच्चिदानंद राय अकेले ऐसे नेता नहीं है, जिन्होंने यह मांग उठाई है। कई अन्य नेताओं का कहना है कि यदि वोट नरेंद्र मोदी के नाम पर मांगे गए हैं तो राज्य में नीतीश के स्थान पर भाजपा का मुख्यमंत्री क्यों नहीं होना चाहिए।

भाजपा नेता के इस बयान पर बिहार भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि सच्चिदानंद राय के बयान को ज्यादा गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। यह उनका व्यक्तिगत बयान है। वैसे नीतीश कुमार भाजपा की नीतियों को लेकर अक्सर सवाल उठाते रहे हैं। जिसमें धारा 370 भी शामिल है।