लखनऊ : लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण में उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर रविवार को मतदान समाप्त हो चुका है। शाम 6 बजे तक 54.37 फीसदी मतदान हुआ।

दोपहर 3 बजे तक मतदान

प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के मुताबिक 3 बजे तक महाराजगंज में 52.40 प्रतिशत, गोरखपुर में 46.91, कुशीनगर में 47.90 प्रतिशत, देवरिया में 45.26, बांसगांव में 44.92, घोसी में 45.32, सलेमपुर में 43, बलिया में 42.56, गाजीपुर में 45.89, चंदौली में 45, वाराणसी में 43.71, मिर्जापुर में 50.01 और राबर्ट्सगंज में 47.30 प्रतिशत मतदान हुआ ।

दोपहर 1 बजे तक मतदान

लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण में उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर रविवार दोपहर 1 बजे तक 36.73 प्रतिशत मतदान हुआ । प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के मुताबिक एक बजे तक महाराजगंज 38.68 प्रतिशत, गोरखपुर 38.16, कुशीनगर 37 प्रतिशत, देवरिया 36.34,बांसगांव 36.86,घोसी 36.80,सलेमपुर 34.84,बलिया 34.92,गाजीपुर 37.65,चंदौली 34.20,वाराणसी 36.80,मिर्जापुर 35.96 और राबर्टसगंज में 35.51 प्रतिशत मतदान हुआ ।

चंदौली में भाजपा और सपा कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा की खबर है । इस बारे में सहायक निर्वाचन अधिकारी बीडीआर तिवारी ने बताया कि चंदौली के सकटिया गांव में ऐसी घटना की जानकारी मिली थी लेकिन पुलिस दल समय पर पहुंच गया और स्थिति को सामान्य किया।

इस घटना को संज्ञान में लिया गया है और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी । यह पूछे जाने पर की चंदौली के अलीगंज पुलिस स्टेशन के ताराजीवन पुर गांव में दलितों की उंगली में चुनाव से पहले से ही स्याही लगा दी गयी है, उन्होंने कहा कि ''इस घटना को संज्ञान में लिया गया है और इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गयी है और प्रथम दृष्टया एक राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं का नाम सामने आ रहा है, प्रशासन ने लोगों को निर्भीक होकर मतदान करने को कहा गया है ।''

तिवारी ने कहा कि कुछ जगह से ईवीएम में खराबी की शिकायतें भी आयीं थीं जिसे ठीक कर लिया गया है । उन्होंने बताया कि गोरखपुर, मिर्जापुर, वाराणसी और मउ में कुछ स्थानों पर मतदान वहिष्कार की भी खबरें आयी हैं जहां अधिकारियों को भेजा गया है ।

इस चरण में वाराणसी के अलावा गाजीपुर, मिर्जापुर, महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, घोसी, सलेमपुर, बलिया, चंदौली और रॉबट्र्सगंज सीटों के लिये मतदान होगा। इस चरण में कुल 167 प्रत्याशी मैदान में हैं।

सातवें चरण में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा (गाजीपुर), अनुप्रिया पटेल (मिर्जापुर), प्रदेश भाजपा अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय (चंदौली), पूर्व केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री आर.पी.एन. सिंह (कुशीनगर) जैसी सियासी हस्तियों का भाग्य तय होगा। सबकी निगाहें प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय निर्वाचन और उम्मीदवारी वाले क्षेत्र बनारस पर लगी हैं।

पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में चली लहर का केन्द्र बने मोदी ने करीब तीन लाख 72 हजार मतों से यह सीट जीती थी। इस बार भी उनकी जीत सुनिश्चित मान रही भाजपा के सामने मोदी को पिछली दफा के मुकाबले अधिक मतों से जिताने की चुनौती है।

वैसे तो भाजपा ने गोरखपुर सीट पर भोजपुरी अभिनेता रवि किशन को मैदान में उतारा है, मगर इसे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रतिष्ठा से जोड़कर देखा जा रहा है। योगी यहां से पांच बार सांसद चुने जा चुके हैं।

हालांकि पिछले साल इस सीट पर हुए उपचुनाव में भाजपा को सपा के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा था। लिहाजा इस बार यह सीट जीतना भाजपा के लिये प्रतिष्ठा का सवाल है। इस चरण का मतदान महागठबंधन कर चुनाव लड़ रहे सपा के आठ और बसपा के पांच प्रत्याशियों के भाग्य का भी फैसला करेगा।

पिछले लोकसभा चुनाव में लगभग धराशायी हो चुके सपा और बसपा का इस दफा गठबंधन बन जाने से वह भाजपा के लिये एक चुनौती के तौर पर उभरता दिख रहा है। इस चरण में 167 उम्मीदवार मैदान में हैं।

सबसे ज्यादा 26 प्रत्याशी वाराणसी में ताल ठोंक रहे हैं। इस चरण में दो करोड़ 32 लाख से ज्यादा मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे। मतदान के लिये 13979 मतदान केन्द्र और 25874 मतदेय स्थल बनाये गये है ।

दोपहर 11 बजे तक मतदान -

इन 13 सीटों पर ग्यारह बजे तक 22.62 प्रतिशत मतदान हुआ। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के मुताबिक ग्यारह बजे तक महाराजगंज 26 प्रतिशत, गोरखपुर 23.62, कुशीनगर 21 प्रतिशत, देवरिया 21.40,बांसगांव 23.14,घोसी 20.99,सलेमपुर 23.60,बलिया 21,गाजीपुर 22.88,चंदौली 22.42,वाराणसी 23.10,मिर्जापुर 24.70 और राबर्टसगंज में 20.20 प्रतिशत मतदान हुआ।

इस चरण में वाराणसी के अलावा गाजीपुर, मिर्जापुर, महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, घोसी, सलेमपुर, बलिया, चंदौली और रॉबट्र्सगंज सीटों के लिये मतदान होगा। इस चरण में कुल 167 प्रत्याशी मैदान में हैं।

यह भी पढ़ें :

LIVE : आदित्यनाथ, नीतीश कुमार ने डाला वोट, मोदी ने किया ट्वीट

सिर से जुड़ीं बहनों को मिला अलग-अलग वोट डालने का अधिकार, जानिए क्या है मामला

केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल मिर्जापुर से दोबारा संसद पहुंचने की उम्मीद लगाये हैं। ऊंट किस करवट बैठेगा, यह 23 मई को पता चलेगा। सातवें चरण में भाजपा 11 सीटों पर जबकि उसका सहयोगी अपना दल-सोनेलाल मिर्जापुर और रॉबट्र्सगंज सीटों पर चुनाव लड़ रहा है।

पिछले लोकसभा चुनाव में सातवें चरण की सभी 13 सीटों पर भाजपा और उसके सहयोगी ने ही जीत दर्ज की थी। इस चरण का मतदान महागठबंधन कर चुनाव लड़ रहे सपा के आठ और बसपा के पांच प्रत्याशियों के भाग्य का भी फैसला करेगा।