नई दिल्ली : राजनीति में व्यंग्य, खिंचाई और आरोप-प्रत्यारोप पुरानी परंपरा रही है। समय-समय पर इसके स्वरूप जरूर बदलते रहे हैं। फिर चाहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'फेंकू' कहा गया या फिर राहुल गांधी को 'पप्पू'। ये दोनों ही उपनाम लोगों के बीच काफी चर्चा में रहे हैं। क्या आपको मालूम है कि 'फेंकू' और 'पप्पू' नाम किसने दिया है।

जब भी सोशल मीडिया या चुनावी भाषणों में फेंकू और पप्पू का जिक्र आता है तो लोग तालियां बजाने और हंसने का काम जरूर करते हैं। लेकिन उन्हें यह पता नहीं होता कि राहुल गांधी को यह नाम किसने और किस लिए दिया था। ठीक यही बात पीएम नरेंद्र मोदी पर भी लागू होती है।

नरेंद्र मोदी को ‘फेंकू’ नाम किसने दिया, यह फिलहाल पर्दे के पीछे ही है, लेकिन यह नाम इतना अधिक चर्चा में रहा कि अब इसके बिना कोई भी डिबेट पूरी नहीं होती।

दरअसल, एक टीवी कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने खुलासा किया कि उन्होंने ही नरेंद्र मोदी को 'नमो' नाम दिया था। इसके अलावा उन्होंने बताया कि मैंने ही राहुल गांधी को 'पप्पू', नरेंद्र मोदी को 'फेंकू' नाम भी दिया था।

यह भी पढ़ें :

बाबा केदारनाथ धाम पहुंचकर पीएम मोदी ने की पूजा-अर्चना, गुफा में लगाएंगे ध्यान

BJP के खिलाफ किसी भी पार्टी से गठबंधन के लिए तैयार चंद्रबाबू, राहुल गांधी से करेंगे मुलाकात

भाजपा छोड़ने के बाद हालांकि शत्रुघ्न सिन्हा के सुर पूरी तरीके से बदल चुके हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी में बहुत ऊर्जा है और राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के एक साल के भीतर ही तीन बड़े राज्यों में अपनी पार्टी को जीत दिलाई. उनका पप्पू कहकर मजाक उड़ाया जाता था, लेकिन उन्होंने साबित कर दिया है कि पप्पू कौन है और फेंकू कौन है।

शत्रुघ्न सिन्हा भाजपा से बगावत के बाद कांग्रेस पार्टी का दामन थामा और अब पटना साहिब सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उनके सामने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद हैं।