चंडीगढ़: पुलिस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के पास "मोदी पकौड़ा'' बेच रहे करीब 12 छात्रों को हिरासत में ले लिया। सेक्टर 34 थाना प्रभारी बलदेव कुमार ने बताया, "हमने एहतियातन 10 से 12 छात्रों को हिरासत में लिया। हालांकि, रैली समाप्त होने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।'' छात्र भाजपा प्रत्याशी किरण खेर के समर्थन में प्रधानमंत्री की एक रैली के स्थान के नजदीक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अपनी डिग्री इंजीनियरिंग, बीए और एलएलबी के नाम वाले पकौड़े बेच रहे थे।

किरण खेर, कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व केन्द्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल के खिलाफ चंडीगढ़ सीट से मैदान में हैं। यहां 19 मई को मतदान होना है। एक महिला प्रदर्शनकारी ने कहा, "हम यहां पकौड़ा योजना के तहत हमें नये रोजगार देने के लिए मोदीजी का स्वागत करने के लिए आए हैं। हम मोदी रैली में पकौड़ा बेचना चाहते हैं ताकि, वह जान सकें कि शिक्षित युवा के लिए पकौड़ा बेचना कितना महान है।'' पिछले साल जनवरी में मोदी ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में जोर देकर कहा था कि लोग पकौड़ा बेच कर एक दिन में 200 रूपया कमा रहे हैं उसे बेरोजगारी नहीं माना जा सकता।

यह भी पढ़ें:

सियासत में ‘पकौड़ा प्रोटेस्ट’ का टेस्ट है लाजवाब, रामपुर में सपा का अनूठा विरोध

दरअसल एक साक्षात्कार में मोदी के युवाओं को पकौड़ा बेचने के सुझाव का विपक्ष ने खूब मजाक बनाया है। लिहाजा मोदी जहां भी रैली कर रहे हैं पुलिस इस बारे में सतर्कता बरतती है कि कहीं विरोध की नीयत से तो कोई पकौड़ा नहीं बना रहा है।

हालांकि रैली स्थल से दूर इजाजत वाले स्थल पर पकौड़ा बनाने से रोकने की संवैधानिक आजादी पर कुठाराघात नहीं किया जा सकता है। वहीं प्रशासन पीएम के आगमन का हवाला देकर जोर जबरदस्ती से ही पकौड़े वालों को हटवा रहा है।