पटना : लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में बिहार की 5 सीटों के लिए सोमवार को मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। शाम 6 बजे तक 57.86 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

पांचवें चरण में हाजीपुर, सारण, मुजफ्फरपुर, मधुबनी और सीतामढ़ी लोकसभा क्षेत्रों के 87.66 लाख से ज्यादा मतदाताओं के लिए 8,899 मतदान केंद्र बनाए गए थे। पांचवें चरण में करीब 58 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने-अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

राज्य निर्वाचन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि पांचों सीटों पर 57.86 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। हालांकि इस आंकड़े में कुछ वृद्घि हो सकती है, क्योंकि अभी अंतिम आंकड़ा आना बाकी है। सबसे अधिक 61.39 प्रतिशत मतदान मुजफ्फरपुर में हुआ है, जबकि सबसे कम 55.50 प्रतिशत मतदान मधुबनी लोकसभा क्षेत्र में हुआ है।

शुरू में कुछ मतदान केंद्रों पर ईवीएम खराब होने की सूचना मिली थी, जिन्हें तुरंत दुरुस्त करवाकर मतदान प्रारंभ करवाया गया। इस दौरान छिटपुट घटनाओं को छोड़कर कहीं से किसी बड़ी घटना की सूचना नहीं है।

इस बीच, सारण लोकसभा क्षेत्र में एक मतदाता ने सोनपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र संख्या 131 पर एक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को पटककर तोड़ दिया। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।

सारण के पुलिस अधीक्षक हरिकिशोर राय ने बताया, "सारण जिले में मतदान शांतिपूर्ण ढंग से चल रहा था, इसी बीच सोनपुर विधानसभा के मतदान केंद्र संख्या 131 पर मतदान करने आए एक मतदाता ने ईवीएम यूनिट को पटककर तोड़ दिया। कुछ समय के लिए मतदान का कार्य बाधित रहा। बाद में बैलेट यूनिट बदल दी गई और फिर से मतदान कार्य प्रारंभ कर दिया गया था।"

उन्होंने बताया कि ईवीएम तोड़ने वाले युवक को गिरफ्तार कर लिया गया है, जिसकी पहचान गोपाल पासवान के रूप में हुई है।

पांचों सीटों पर कुल 82 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। हाजीपुर में मुख्य मुकाबला लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के प्रदेश अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के शिवचंद्र राम के बीच है, जबकि सारण में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी और राजद के चंद्रिका राय आमने-सामने हैं।

मुजफ्फरपुर में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के भाजपा प्रत्याशी अजय निषाद के सामने विपक्षी महागठबंधन से विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के राजभूषण चौधरी हैं। मधुबनी लोकसभा क्षेत्र में भाजपा के अशोक यादव और वीआईपी के बद्री पूर्वे के बीच की जंग में पूर्व सांसद शकील अहमद भी निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में उतर आए हैं।

सीतामढ़ी में राजग की ओर से जद (यू) के सुनील कुमार पिंटू और राजद के अर्जुन राय के बीच कांटे का मुकाबला है।

इस चरण के चुनाव को लेकर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए थे। सभी मतदान केंद्रों पर अर्धसैनिक बलों और बिहार सैन्य बल की तैनाती की गई थी।

बिहार में वर्ष 2014 के चुनाव से लेकर अब स्थिति बदल चुकी है। पिछले चुनाव में जद (यू) अकेले भाजपा के खिलाफ मैदान में थी, लेकिन इस बार जद (यू) और भाजपा साथ में चुनाव लड़ रहे हैं। इन्हें राजद, कांग्रेस और दूसरी पार्टियों से कड़ी चुनौती मिलने की संभावना है।

उल्लेखनीय है कि बिहार की 40 लोकसभा सीटों के लिए सभी सात चरणों में मतदान होना है। इससे पहले चरण में 11 अप्रैल को चार लोकसभा क्षेत्रों में तथा दूसरे, तीसरे और चौथे चरण में पांच-पांच क्षेत्रों में मतदान संपन्न हो चुका है। मतगणना 23 मई को होगी।

सारण संसदीय क्षेत्र में सोनपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र संख्या 131 पर गोपाल पासवान नामक एक व्यक्ति को ईवीएम को नुकसान पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। सारण के पुलिस अधीक्षक हर किशोर राय ने बताया कि ईवीएम को बदलने के बाद मतदान फिर से शुरू हुआ।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुजफ्फरपुर लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत कटरा प्रखंड के डुमरी गांव स्थित मतदान केंद्र संख्या 232 पर लोगों ने विकास कार्य नहीं होने को लेकर मतदान का बहिष्कार किया।

लोकसभा चुनाव 2019 के पांचवें चरण के तहत बिहार के पांच लोकसभा क्षेत्रों सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, हाजीपुर एवं सारण में आज मतदान शुरू हो गया ।

पांचों संसदीय क्षेत्रों में निष्पक्ष मतदान के लिए 65,000 कार्मिक एवं 4349 माइक्रो ऑब्जर्वर चुनावी ड्यूटी में तैनाती किए जाने के साथ 400 जगहों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गयी है। वैशाली और सारण के दियारा इलाके में घुड़सवार और नाव से गश्ती की जाएगी एवं मतदान के दौरान कुल 12,000 गाड़ियों को प्रयोग में लाया जाएगा। इस चरण में कुल 1979 वल्नरेबल बूथ हैं।

इन संसदीय क्षेत्रों के लिए कुल 8,899 मतदान केंद्र बनाए गए हैं जिसमें सीतामढ़ी में 1776, मधुबनी में 1837, मुजफ्फरपुर में 1748, सारण में 1711 एवं हाजीपुर में 1827 मतदान केंद्र हैं। सुचारू रूप से मतदान संपन्न कराने के लिए 8899 वीवीपैट लगाये जाने के साथ तीन लोकसभा क्षेत्रों में 15 से ज्यादा प्रत्याशियों के चुनावी मैदान में होने के मद्देनजर इन पांचों संसदीय क्षेत्रों के लिए 14,260 बैलेट यूनिट की व्यवस्था की गयी ।

सभी संसदीय क्षेत्रों में चुनाव आयोग द्वारा निर्धारित समयानुसार सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान होगा। चुनाव लड़ने वाले कुल 82 प्रत्याशियों में छह महिला उम्मीदवार शामिल हैं। इनमें सीतामढ़ी से 20, मधुबनी से 17, मुजफ्फरपुर से 22, सारण से 12 और हाजीपुर से 11 उम्मीद्वार हैं।

पांचवें चरण में मतदान के दौरान कुल 87,66,722 मतदाता मताधिकार का प्रयोग करने के लिए पात्र हैं जिसमें से 16,875 सर्विस वोटर्स हैं। कुल मतदाताओं में 46,62,380 पुरूष मतदाता, 40,87,242 महिला मतदाता एवं 225 थर्ड जेंडर मतदाता हैं।

यह भी पढ़ें :

Video : जब बिहार की जनता ने राजनाथ सिंह की बंद कर दी बोलती, खोल दी पोल..!

बिहार में सियासी दिग्गज ‘योद्धा’ होकर भी निभा रहे हैं ‘सारथी’ की भूमिका, जानिए कैसे

सीतामढी में सीधा मुकाबला विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद के अर्जुन राय और राजग में शामिल जदयू उम्मीदवार सुनिल कुमार पिंटू से है। मधुबनी में राजग में शामिल भाजपा के उम्मीदवार अशोक कुमार यादव का मुकाबला महागठबंधन में शामिल विकासशील इंसान पार्टी प्रत्याशी बद्री कुमार पूर्वे तथा निर्दलीय प्रत्याशी तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. शकील अहमद के बीच है।

मुजफ्फरपुर में भाजपा प्रत्याशी और निवर्तमान सांसद अजय निषाद विकासशील इंसान पार्टी उम्मीदवार राज भूषण चौधरी के बीच है। सारण में सीधा मुकाबला भाजपा प्रत्याशी राजीव प्रताप रूडी और राजद प्रमुख लालू प्रसाद के समधी एवं पार्टी प्रत्याशी चन्द्रिका राय के बीच है। हाजीपुर में सीधा मुकाबला राजग में शामिल लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस और राजद उम्मीदवार शिवचन्द्र राम के बीच है।