पहली बार मंच पर साथ दिखे माया और मुलायम, बोले- मैं मायावती जी के एहसान को कभी नहीं भूलूंगा 

मंच पर लोगों का अभिवादन स्वीकार करते मुलायम सिंह, मायावती जी और अखिलेश यादव - Sakshi Samachar

मैनपुरी : मैनपुरी में सपा बसपा गठबंधन की चौथी रैली शुरू हो गई है। इस दौरान सपा के पूर्व सुप्रीमों मुलायम सिंह यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती पहली बार एक साथ मंच साझा करते दिखाई दिए। हालांकि आरएलडी के चीफ अजीत सिंह इस रैली में दिखाई नहीं दिए। रैली को संबोधित करने की शुरुआत मुलायम सिंह यादव ने की। इस दौरान उन्होंने कहा कि बहुत दिनों के बाद हम और मायावतीजी एक मंच पर हैं। यह काफी खुशी की बात है। हमें एक मंच पर रहना होगा। मैनपुरी से हम बहुत बार चुनकर संसद गए हैं यह हमारा घर है अब आखिरी बार आपके कहने से मैं फिर लड़ रहा हूं। मैं ज्यादा आज भाषण नहीं दूंगा। इससे पहले आप लोगों ने मेरे कई भाषण सुने हैं। इस बार मुझे पहले से ज्यादा वोट देकर जिताना।


मुलायम ने कहा कि मैं मायावती जी का काफी सम्मान करता हूं। आज मायावतीजी का एहसान है कि वह हमारे बीच आई हैं। हम उनका स्वागत करते हैं और अपने कार्यकर्ताओं से हमेशा उनका सम्मान करने की अपील करता हूं। मायावतीजी ने हमारी कई बार मदद की है। मुझे जिताने के साथ ही गठबंधन के सभी प्रत्याशियों को जितवाएं।

बता दें कि शुरू में ऐसी खबरें थीं कि मुलायम रैली में शामिल नहीं होंगे। वर्मा ने बताया कि रैली स्थल पर 40 लाख लोगों को जुटाने की तैयारी की गयी है। इस बीच, बसपा जिलाध्यक्ष शिवम सिंह ने बताया कि मायावती शुक्रवार को सैफई के रास्ते मैनपुरी पहुंचेंगी।

इसे भी पढ़ें

मुलायम के लिए मायावती मांगेंगी वोट, मैनपुरी में करेंगी चुनावी रैली

मालूम हो कि वर्ष 1993 में गठबंधन कर सरकार बनाने वाली सपा और बसपा के बीच पांच जून 1995 को लखनऊ में हुए गेस्ट हाउस काण्ड के बाद जबर्दस्त खाई पैदा हो गयी थी। हालांकि लोकसभा चुनाव से पहले सपा से हाथ मिलाने के बाद मायावती स्पष्ट कर चुकी हैं कि दोनों पार्टियों ने भाजपा को हराने के लिये आपसी गिले—शिकवे भुला दिये हैं। अब सबकी निगाहें कल मायावती के सम्बोधन पर होंगी।

Advertisement
Back to Top