पटना: बिहार के उपमुख्यमंत्री व भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता सुशील मोदी ने बुधवार को यहां खुलासा करते हुए दावा किया कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद ने चारा घोटाला मामले में मदद के लिए केंद्रीय वित्त मंत्री से मुलाकात की थी और कहा था कि अगर उन्हें मदद मिलती है तो 24 घंटे के अंदर नीतीश कुमार का 'इलाज' कर देंगे।

पटना में एक संवाददाता सम्मेलन में सुशील मोदी ने कहा कि झारखंड उच्च न्यायालय ने चारा घोटाले के मामले में फंसे लालू प्रसाद के पक्ष में तब फैसला सुनाते हुए कहा कि था इस घोटाले से जुड़े अन्य मामलों में ट्रायल की जरूरत नहीं है क्योंकि सभी मामले एक तरह के हैं। इसके बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) इस फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय गई थी। मोदी ने कहा, "लालू प्रसाद ने इसके बाद अपने दूत प्रेमचंद गुप्ता को भाजपा नेता अरुण जेटली के पास भेजा और मदद मांगी।"

यह भी पढ़ें:

लालू प्रसाद ने अपनी किताब में नीतीश के बारे में किया बड़ा खुलासा

उस समय लालू ने कहा था कि अगर उन्हें मदद मिलती है तो 24 घंटे के अंदर नीतीश कुमार का इलाज कर देंगे। मोदी ने कहा कि लालू ने नीतीश की सरकार गिराने की पेशकश की थी।

मोदी ने दावा किया कि इसके बाद प्रेमचंद गुप्ता के साथ लालू ने खुद जेटली से मुलाकात की थी। मोदी ने कहा कि उस समय हालांकि जेटली ने लालू को मदद देने से इनकार करते हुए कहा था कि हम सीबीआई के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं कर सकते, क्योंकि यह एक स्वायत्त संस्थान है।

यह भी पढ़ें:

“बार बार जेल जाकर भी नहीं सुधरे लालू प्रसाद” -सुशील मोदी

मोदी ने लालू पर निशाना साधते हुए कहा कि लालू प्रसाद अपने फायदे के लिए किसी के भी पैर पकड़ सकते हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) और भाजपा की आलोचना करने वाले लालू ने बिहार में सरकार भी भाजपा की मदद से बनाई थी। मोदी ने कहा कि इसके लिए लालू खुद भाजपा से मदद मांगने भाजपा दफ्तर गए थे।