रामपुर : उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से सपा कैंडिडेट आजम खान भी अली और बजरंग बली को नया नरा देकर एक नई बहस को जन्म दे दिया है। दरअसल उन्होंने बजरंगबली और अली का मुद्दा उठाते हुए बजरंगबली की जगह 'बजरंगअली' का नारा लगवाया। इसके अलावा उन्होंने पीएम पर पाकिस्तान का एजेंट होने का आरोप भी लगाया।

आजमखान का यह बयान गुरुवार का है जब वो एक आमजनसभा को संबोधित कर रहे थे। खान ने कहा कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने बयान दिया है कि अगर पीएम मोदी फिर सत्ता में आते हैं तो दोनों देशों के बीच विवाद सुलझ जाएगा। आजम खान ने कहा कि मोदी-इमरान की ये कैसी मिलीभगत है?

"आप कल नवाज शरीफ के दोस्त थे और आज इमरान खान आपके दोबारा प्रधानमंत्री बनने का इंतजार कर रहा है। बताओ लोगों पाकिस्तान का एजेंट मैं हूं या पाकिस्तान का एजेंट...". तभी सभा मे मौजूद भीड़ की आवाज आती है-मोदी है-मोदी है।

इसे भी पढ़ें

मुश्किल में आजम खान का कुनबा, उनकी पत्नी और बेटे पर मुकदमा दर्ज, जानिये क्या है मामला

अली और बजरंग मामले पर लोगों से अपील करते हुए कहा, "आपस के रिश्ते को अच्छा करो, अली और बजरंग में झगड़ा मत कराओ, मैं तो एक नाम दिए देता हूं बजरंग अली।" । बजरंग अली से मेरा दीन कमजोर नहीं होता। योगी जी ने कहा कि हनुमान जी दलित थे और फिर उनके किसी साथी ने कहा कि हनुमान जी ठाकुर थे। फिर पता चला कि वह ठाकुर नहीं जाट थे। फिर किसी ने कहा कि वह हिंदुस्तान के नहीं श्रीलंका के थे लेकिन बाद में एक मुसलमान ने कहा कि बजरंगबली मुसलमान थे। झगड़ा ही खत्म हो गया। हम अली और बजरंग एक हैं। बजरंग अली तोड़ दो दुश्मन की नली। बजरंग अली ले लो जालिमों की बलि।'