अमेठी। लोकसभा चुनाव 2019 का पहला चरण गुरुवार सुबह 7 बजे शुरू हो चुका है। पहले चरण में 18 राज्यों के 91 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान जारी है। इस बीच गुरुवार को केंद्रीय कपड़ा मंत्री और भाजपा नेता स्मृति ईरानी उत्तर प्रदेश के अमेठी से अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है। ईरानी ने गौरीगंज में जिलाधिकारी कार्यालय में अपना नामांकन भरा। इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके साथ थे। जिलाधिकारी कार्यालय जाने से पहले स्मृति ईरानी ने पति जुबिन के साथ पूजा पाठ किया। इसके बाद उन्होंने लगभग चार किलोमीटर का रोड शो भी निकाला। इस दौरान उनके समर्थक नारेबाजी करते रहे। रास्ते में उन्होंने एक मंदिर में प्रार्थना की और भाजपा कार्यालय पर आयोजित पूजा में शामिल होने के लिए चली गईं।

17 अप्रैल को नहीं कर पाई थीं अपना नामांकन

स्थानीय भाजपा नेता दुर्गेश त्रिपाठी ने कहा कि ईरानी को 17 अप्रैल को अपना नामांकन दाखिल करना था, लेकिन उस दिन (महावीर जयंती) की छुट्टी के कारण, उन्होंने तारीख बदल दी। 2014 में, स्मृति ईरानी राहुल गांधी से हार गईं थी, लेकिन इस चुनाव में राहुल गांधी और उनके बीच जीत का अंतर बेहद ही कम था।

पिछले पांच सालों से क्षेत्र में कर रही विकास

पिछले पांच वर्षों में, वह बार-बार लखनऊ से लगभग 130 किलोमीटर दूर एक बड़े पैमाने पर ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र अमेठी का दौरा किया है, और केंद्र सरकार की परियोजनाओं को लॉन्च किया है। पिछले महीने ही पीएम मोदी द्वारा अमेठी में राइफ बनाने की फैक्ट्री की आधारशिला रखी गई थी।

इसे भी पढ़ें

आज अमेठी लोकसभा सीट के लिए नामांकन दाखिल करेंगी स्मृति ईरानी, ये हस्तियां भी रहेंगे मौजूद

राहुल पर लगातार जुबानी हमले कर रही स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी लगातार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दो जगह से चुनाव लड़ने को लेकर लगातार जुबानी हमले कर रही है। उन्होंने राहुल पर अमेठी की उपेक्षा करने का आरोप लगाया है। राहुल के दो सीटों से चुनाव लड़ने को लेकर भाजपा के इस आरोप को काफी बल मिलता दिखाई दे रहा है कि राहुल गांधी "भाग रहे हैं" क्योंकि वह अमेठी में अपनी जीत की संभावनाओं को लेकर आशंकित दिखाई दे रहे है। वहीं कांग्रेस ने बीजेपी के इस आरोप को खारिज किया है।

6 मई को होगा अमेठी में चुनाव

बता दें कि 6 मई को पांचवें चरण में चुनाव होने जा रहा है। अमेठी संसदीय क्षेत्र में चार विधानसभा क्षेत्र हैं - तिलोई, गौरीगंज और जगदीशपुर (आरक्षित) है। ।