पाकिस्तान के लिए ये क्या कह दिया उमर अब्दुल्ला ने, अब बीजेपी ले रही आड़े हाथों

डिजाइन इमेज - Sakshi Samachar

जम्मू: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने श्रद्घालुओं के लिए शारदा पीठ खोलने के पाकिस्तान के निर्णय की सराहना करने पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला पर मंगलवार को हमला बोला। उधर, विस्थापित कश्मीरी पंडितों के एक संगठन ने शारदा पीठ खोलने के पाकिस्तान सरकार के कथित फैसले का स्वागत किया है। शारदा पीठ पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में स्थित है और इस पर पार्टी ने कहा कि क्षेत्र पड़ोसी देश के अवैध कब्जे में है और भारत इसे वापस लेगा।

साथ ही पार्टी ने पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के मानवाधिकार उल्लंघनों की भी निंदा की और कहा कि संयुक्त राष्ट्र को दो नाबालिग हिंदू लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन पर गौर करना चाहिए तथा देश के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। इस बीच, विस्थापित कश्मीरी पंडितों के एक संगठन ऑल पार्टीज माइग्रेंट्स कोआर्डीनेशन कमेटी' ने भारत के हिन्दू श्रद्धालुओं के लिए शारदा पीठ खोलने के पाकिस्तान सरकार के कथित फैसले का स्वागत किया है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'उमर पाक के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में स्थित शारदा पीठ को खोले जाने के पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के प्रयास के लिए उनकी प्रशंसा करते नहीं थक रहे। पीओके पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है बल्कि जम्मू-कश्मीर की तरह भारत का अभिन्न अंग है। उन्होंने कहा, 'पीओके पाकिस्तान के अवैध कब्जे में है और हम उसे वापस लेंगे तथा वहां एक मंदिर एवं मठ का निर्माण करेंगे। पाकिस्तान की धुन पर नाच रहे नेताओं को शर्म आनी चाहिए।' इससे पहले दिन में उमर अब्दुल्ला ने कहा था कि शारदा पीठ गलियारा खोलने का इमरान खान का निर्णय स्वागत योग्य है।

उमर अब्दुल्ला ने मांगी कश्मीरियों के लिए मदद, तो केटीआर ने दिया यह जवाब

वहीं उमर अब्दुल्ला के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने मंगलवार को कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए, कश्मीर हमेशा भारत का अभिन्न हिस्सा रहेगा। अब्दुल्ला ने आंध्र प्रदेश के कडपा नगर में तेलुगू देशम पार्टी की चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "हम कश्मीर में तनाव के लिए जिम्मेदार हैं... हम जन्नत का ख्याल नहीं रख सके।'' उन्होंने कहा, "हम सभी इसे फिर से जन्नत बनाते हैं।'' अब्दुल्ला ने साथ ही कहा कि अगर भारत और पाकिस्तान दुश्मन बने रहेंगे तो दोनों देशों की प्रगति रुक जाएगी।

Advertisement
Back to Top