नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के मुताबिक नेताओं से अधिक बुद्धिमान वोटर होते हैं। जेटली के मुताबिक मतदाताओं में समझदारी है जिसे उन्होंने 1952 के पहले मतदान से ही साबित किया है।

अरुण जेटली ने कांग्रेस पर झूठी और फर्जी फोटोकॉपियों को बी एस येदियुरप्पा की डायरी बताने का आरोप लगाया। साथ ही इस कथित फर्जीवाड़े का असर मतदाताओं पर नहीं होने का दावा किया। बात को आगे बढ़ाते हुए अरुण जेटली ने मतदाताओं को नेताओं से अधिक बुद्धिमान बताया।

बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा भाजपा के शीर्ष मंत्रियों को 1800 करोड़ रिश्वत देने का आरोप लगाया। साथ ही कांग्रेस ने इसकी जांच लोकपाल से कराने की मांग की है। इस बारे में एक कथित डायरी का हवाला दिया जा रहा है। जिसके बारे में दावा किया जा रहा है कि इसे कर विभाग को सौंप दिया गया है।

यह भी पढ़ें:

अरुण जेटली ने मीडिया पर साधा निशाना, कहीं ये बड़ी बातें

अरुण जेटली ने आक्रामक होते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी की झूठ और जालसाजी चुनाव को प्रभावित नहीं कर सकती है। पुलवामा हमले पर सैम पित्रोदा के बयान की भी अरुण जेटली ने निंदा की। साथ ही इस तरह की संवेदनहीनता पर कांग्रेस द्वारा लोगों का ध्यान भटकाने का आरोप लगाया।

अरुण जेटली ने दावा किया कि कांग्रेस पार्टी के शासन की तुलना में केंद्र की मोदी सरकार की कार्यशैली कुछ अलग है। अब विभिन्न मंत्रालयों में काम के लिए लोगों को चक्कर नहीं लगाना पड़ता है। जबकि गरीबों को सीधे तौर पर नकद लाभ मुहैया कराया जा रहा है।