भोपाल : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भोपाल संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को पत्रकारों के लिए आयोजित एक समारोह में कहा कि केंद्रीय चुनाव अभियान समिति ने तय किया है कि दिग्विजय सिंह भोपाल से चुनाव लड़ेंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह को इंदौर, जबलपुर अथवा भोपाल से चुनाव लड़ने के लिए कहा गया था। अंत में तय हुआ है कि दिग्विजय सिंह भोपाल से चुनाव लड़ेंगे।

कमलनाथ ने पिछले दिनों कहा था कि दिग्विजय सिंह को मुश्किल सीट से चुनाव लड़ना चाहिए, लिहाजा कमलनाथ द्वारा कही गई बात पर केंद्रीय चुनाव अभियान समिति ने भी मुहर लगा दी है। भोपाल वह संसदीय क्षेत्र है जहां लंबे अरसे से कांग्रेस को जीत नहीं मिली है।

कांग्रेस ने 39 प्रत्याशियों की सूची जारी

लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने 39 प्रत्याशियों की सूची जारी की है। कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में दो प्रत्याशियों को बदल दिया है। प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर अब मुरादाबाद की जगह फतेहपुर सीकरी से लड़ेंगे। उन्होंने खुद अपनी सीट बदलने की गुहार लगाई थी। उनकी जगह कवि इमरान प्रतापगढ़ी को मुरादाबाद से उतारा गया है। वहीं, बिजनौर से पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दकी अब इंदिरा भाटी की जगह चुनाव मैदान में हैं।

यह भी पढ़ें :

बिहार में एनडीए उम्मीदवारों का एलान, जानिए किसे-कहां से मिला टिकट

कांग्रेस ने रेणुका चौधरी को खम्मम से उतारा चुनावी मैदान में, सामने होगी TRS की चुनौती

सपा से मिजार्पुर के सांसद रहे बाल कुमार पटेल कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। पार्टी ने उन्हें बांदा से टिकट दिया है। कांग्रेस ने हरदोई से वीरेन्द्र कुमार वर्मा को अपना प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने हाथरस (सुरक्षित) से त्रिलोकराम दिवाकर, आगरा (सुरक्षित) से प्रीता हरित, बिजनौर से नसीमुद्दीन सिद्दीकी, फतेहपुर सीकरी से राज बब्बर, बरेली से प्रवीण सिंह ऐरन, हरदोई (सुरक्षित) से वीरेंद्र कुमार वर्मा, मुरादाबाद से इमरान प्रताप गड़हरिया, बांदा से बाल कुमार पटेल तथा कौशांबी (सुरक्षित) से गिरीश चंद पासी को अपना प्रत्याशी बनाया है।

गौरतलब है कि 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने राजबब्बर को फतेहपुर सीकरी से टिकट दी थी। उन्होंने यहां से चुनाव लड़कर लगभग दो लाख मत प्राप्त किए थे। वह बसपा प्रत्याशी से लगभग 10 हजार मतों के अंतर से चुनाव हार गए थे। उसके बाद वह फिरोजाबाद में हुए उप चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर लड़े और सपा की डिंपल यादव को हराकर सांसद बने।