पटना : सांसद पप्पू यादव की पार्टी जन अधिकार पार्टी भी अब अकेले ही चुनाव मैदान में उतरने का मन बना रही है। पार्टी ने शुक्रवार को इसके लिए पटना में एक बैठक बुलाई है, जहां इस संबंध में निर्णय लिए जाने की संभावना है।

जन अधिकार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अखलाक अहमद ने गुरुवार को बताया कि पार्टी की एक बैठक शुक्रवार को पटना में बुलाई गई है जिसमें सीटों को लेकर निर्णय लिया जाएगा तथा उन क्षेत्रों का दायित्व नेताओं को सौंपा जाएगा। उन्होंने कहा कि पार्टी चुनाव घोषणा के पूर्व से ही सात सीटों पर तैयारी कर रही है।

अहमद कहते हैं, "महागठबंधन द्वारा निर्णय नहीं लिए जाने की स्थिति में पार्टी अकेले चुनाव मैदान में उतरेगी और सात सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी।"

ये भी पढ़ें: BJP के ‘शत्रु’ ने इस पार्टी से चुनाव लड़ने के दिये संकेत, होली के बाद लेंगे बड़ा फैसला

जन अधिकार पार्टी के सूत्रों का कहना है कि विपक्षी दलों के महागठबंधन से नाराज पार्टी मधेपुरा, पूर्णिया, भागलपुर, खगड़िया, अररिया, सीतामढ़ी और बेगूसराय से उम्मीदवार उतार सकती है। इनमें से छह सीटों पर पार्टी पूरी तरह तैयारी कर चुकी है।

उल्लेखनीय है कि पार्टी के प्रमुख और मधेपुरा से सांसद पप्पू यादव पहले ही पार्टी के मधेपुरा और पूर्णिया से चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। पार्टी द्वारा सात सीटों पर चुनाव लड़ने की संभावना के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के निर्णय के बाद ही पार्टी आगे कुछ निर्णय करेगी।

ये भी पढ़ें: Lok Sabha Elections 2019: बिहार में महागठबंधन में सीटों का बंटवारा लगभग तय, वाम दलों पर सहमति नहीं

गौरतलब है कि जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिल चुके हैं। हालांकि पप्पू यादव की पार्टी को महागठंबधन में शमिल करने का राजद के नेता तेजस्वी यादव लगातार विरोध करते रहे हैं। इस संबंध में वह कई मौकों पर सार्वजनिक बयान भी दे चुके हैं।

पप्पू यादव भी तेजस्वी पर निशाना साधते रहे हैं।