संतकबीरनगर : उत्तर प्रदेश के संतकबीर नगर में भाजपा नेताओं के बीच मनमुटाव मारपीट में बदल गया। यह सब उस वक्त हुआ, जब भाजपा सरकार के मंत्री आशुतोष टंडन जिले में जिला योजना समिति की बैठक ले रहे थे। स्थिति यह हो गई कि सांसद ने अपना जूता उतारकर विधायक की जमकर पिटाई कर दी। इसके बाद पूरे बैठक में हंगामा मच गया। भाजपा नेताओं की यह करतूत सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है।

Posted by Sanjay Biradar on Wednesday, March 6, 2019

जानकारी के अनुसार, भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी की भाजपा विधायक राकेश बघेल से गरमा-गरम बहस हुई। इसके बाद सांसद महोदय ने अपना जूता उतारा और विधायक को पीटने लगे। लगातार उन्होंने सबके सामने विधायक को जूते से मारा। इस बात से गुस्साए विधायक ने भी सांसद को जमकर मारा। दोनों के बीच जमकर मारपीट हुई।

मामला बढ़ता देख पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने बीच-बचाव कराकर दोनों को अलग कराया।

सूत्रों ने बताया कि कलेक्ट्रेट सभागार में जिला योजना समिति की बैठक चल रही थी। जिले के प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन मौजूद थे। इसी बीच संत कबीरनगर से भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी और मेंहदावल से भाजपा विधायक राकेश सिंह बघेल के बीच सड़क निर्माण का श्रेय लेने को लेकर कहासुनी हो गयी।

यह भी पढ़ें :

मंच पर ही मारपीट पर उतारू हुए कांग्रेसी नेता

रेस्टोरेंट में दारोगा और महिला वकील से भाजपा पार्षद ने की मारपीट, मामला दर्ज

सूत्रों के अनुसार मामला कहासुनी तक ही सीमित नहीं रहा। दोनों आपस में भिड़ गये। एक ने दूसरे को मारने के लिए जूता निकाल लिया। प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों ने किसी तरह बीच बचाव कर मामला शांत कराया। सूत्रों के मुताबिक जिले के मेंहदावल क्षेत्र में सड़क निर्माण की शिला पट्टिका से सांसद का नाम गायब था, जिसे लेकर बवाल हुआ।

भाजपा के जिलाध्यक्ष सेत भान राय से जब इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने बताया कि मंत्री ने मुझसे फोन पर बात की और कहासुनी के बारे में बताया। ''उस समय मैं अन्यत्र बैठक में था। प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने भी घटना के बारे में जानकारी मांगी है। मैं मौके पर पहुंच रहा हूं और प्रदेश अध्यक्ष को घटनाक्रम से अवगत कराउंगा।'' इस बीच लखनऊ में भाजपा के एक नेता ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि वरिष्ठ नेताओं का मामला है और प्रदेश अध्यक्ष ही इस बारे में कोई फैसला करेंगे।