लखनऊ : बसपा सुप्रीमो मायावती ने रविवार को कहा कि मेहनतकश किसान को थोडी़ सी सरकारी मदद देने की भाजपा सरकार की सोच 'अहंकारी' है। उप्र की पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गोरखपुर में आरम्भ की गई ''पीएम किसान सम्मान निधि योजना'' को मेहनतकश किसान समाज का सम्मान नहीं, बल्कि अपमान बताया । उन्होंने एक बयान में कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि के तहत कुछ किसानों को तीन किश्तों में सालाना मात्र 6,000 रुपया देना किसानों का खुला अपमान है ।

मायावती ने कहा कि यह खेती, किसानी और किसानों की दिन-प्रतिदिन गंभीर होती जा रही समस्याओं से निपटने के मामले में भाजपा सरकार की छोटी और अपरिपक्व सोच का जीता-जागता प्रमाण है। इससे किसान समाज को सतर्क रहने की ज़रूरत है । उन्होंने कहा, ''किसान देश का सबसे बड़ा मेहनतकश समाज है। उन्हें थोड़ी सी सरकारी मदद देने की भाजपा सरकार की सोच अनुचित ही नहीं, बल्कि अहंकारी भी है।''

इसे भी पढ़ें कांग्रेस पर बरसीं मायावती, कहा-UP में बीजेपी और MP में कांग्रेस सरकारी आतंक

उन्होंने कहा कि किसान सबसे पहले अपनी फसल का लाभकारी मूल्य चाहता है और इस वायदे को पूरा करने में पर भाजपा सरकार विफल साबित हुई है । मायावती ने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना को नोटबन्दी एवं जीएसटी आदि की तरह ही अपरिपक्व तौर पर आपाधापी में लागू कर किसानों को मात्र 500 रुपया प्रति माह देना भाजपा की छोटी सोच को प्रदर्शित करता है।