बिहार के चुनाव में निर्णायक भूमिका निभाने जा रही है ये जाति, रिझाने की कोशिश में सभी दल

नीतीश कुमार एवं तेजस्वी यादव (फाइल फोटो) - Sakshi Samachar

पटना : बिहार में जाति आधारित राजनीति कोई नई बात नहीं है, लेकिन लोकसभा चुनाव 2019 की आहट मिलने के साथ ही सभी दल जातियों के नाम पर मतदाताओं को अपने पक्ष में करने में जुट गए हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन हो या राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नीत महागठबंधन, दोनों गठबंधनों के बीच पिछड़े वर्ग से आने वाले मतदाताओं को लुभाने की होड़ मची हुई है।

भाजपा ने 15 फरवरी को पटना में 'ओबीसी मोर्चा' की दो दिवसीय सभा का आयोजन कर रखा था। हालांकि जम्मू एवं कश्मीर में हुए आतंकी हमले के बाद सभा स्थगित कर दी गई। दूसरी तरफ विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी 'बेरोजगारी हटाओ, आरक्षण बढ़ाओ' अभियान के तहत पूरे प्रदेश का दौरा कर रहे हैं।

जातिगत राजनीति का चलन

वरिष्ठ पत्रकार मणिकांत ठाकुर कहते हैं, "बिहार और उसके पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में जाति आधारित राजनीति प्रारंभ से होती रही है। दीगर बात है कि उत्तर प्रदेश में कभी धर्म आधारित राजनीति भी जोर मारने लगती है। ऐसे में बिहार के किसी भी चुनाव में जातिगत राजनीति का चलन है।"

तेजस्वी यादव (सौ. ट्विटर)

मंडल राजनीति पर दांव खेल रहे तेजस्वी

केंद्र सरकार द्वारा आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण देने के बाद तेजस्वी अपने 'बेरोजगारी हटाओ, आरक्षण बढ़ाओ' अभियान के साथ साफ तौर पर 1990 की मंडल राजनीति पर दांव खेल रहे हैं। वह आबादी के अनुसार आरक्षण मिलने की मांग कर रहे हैं। उनकी मांग है कि निजी क्षेत्र के अलावा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और अत्यंत पिछड़ा वर्ग (ईबीसी) को उनकी संबंधित जाति में संख्या के हिसाब से आरक्षण दिया जाए।

तेजस्वी यादव (सौ. ट्विटर)

अति पिछड़े वोटरों को लुभाने की कोशिश में आरजेडी

मणिकांत ठाकुर इसे शुद्घ रूप से जाति आधारित राजनीति बताते हैं। उन्होंने कहा, "राजद अति पिछड़े वोटरों को लुभाने की कोशिश कर रही है। आजकल कोई भी दल निपट स्वार्थवाली राजनीति में लगा हुआ है। जहां जाति की बातकर, पैसे के जरिए, बल के जरिए मतदाताओं को आकर्षित करने की कोशिश की जा रही है, वहां उसूल ताक पर रख दिया जाता है।"

यादव मतदाताओं पर आरजेडी की पकड़

ठाकुर कहते हैं, "बिहार में यादव मतदाताओं पर राजद की पकड़ रही है। भाजपा सहित कई अन्य दलों ने राजद के इस वोटबैंक में सेंध लगाने की कोशिश की, परंतु किसी को बड़ी सफलता नहीं मिली है।" राजद आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग को 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने के बाद भाजपा को ऊंची जाति की पार्टी साबित करने में भी लगी है।

कार्यक्रम का उद्घाटन करते सीएम नीतीश कुमार

'सवर्ण बनाम पिछड़े' का चुनाव

एक अन्य वरिष्ठ पत्रकार संतोष सिंह कहते हैं, "राजद ने सदन में सामान्य वर्ग के आरक्षण का विरोध किया था। ऐसे में राजद खुद को ओबीसी और ईबीसी का शुभचिंतक बनने की कोशिश में लगा है। बिहार में सामान्य वर्ग से इन दोनों जाति वर्ग के मतदाताओं की संख्या अधिक है, यही कारण है कि तेजस्वी अगले चुनाव को 'सवर्ण बनाम पिछड़े' बनाने की कोशिश में लगे हैं।"

यह भी पढ़ें :

बिहार में चुनाव से पहले बिखर सकता है महागठबंधन, सामने आई यह वजह

जानिए कौन होगा वो चेहरा, जिसके नेतृत्व में महागठबंधन लड़ेगा बिहार में लोकसभा चुनाव

बिहार में RJD विधायक की गुंडागर्दी, सरेआम मारा थप्पड़, जान से मारने की दी धमकी, देखें Video

भाजपा ने जातिगत समीकरण को नकारा

ओबीसी मोर्चा के सम्मेलन के सवाल पर उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने हालांकि जाति आधारित राजनीति की बात से इंकार किया है। उन्होंने कहा है कि भाजपा का मूलमंत्र 'सबका साथ, सबका विकास' का रहा है। उन्होंने कहा, "देश में सवर्ण समेत पिछड़ी जाति और दलित समाज सभी राजग के साथ हैं और इसी वजह से विपक्षी दल भाजपा के ओबीसी मोर्चा के कार्यक्रम से परेशान हैं।"

राजद प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव कहते हैं, "भाजपा के किसी कार्यक्रम से महागठबंधन के वोट बैंक पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है। राजद का वोट बैंक पूरी तरीके से उसके साथ एकजुट खड़ा है और भाजपा की सेंधमारी की कोशिश बेकार है।"

कार्यक्रम में मौजूद नीतीश कुमार, सुशील मोदी एवं रविशंकर प्रसाद

जनता दल (युनाइटेड) पहले ही पूरे राज्य में अपने 'अति पिछड़ा प्रकोष्ठ' का जिलास्तरीय सम्मेलन आयोजित कर पिछड़े वर्ग के मतदाताओं से जुड़ने की कोशिश कर चुकी है। माना भी जाता है कि जिस प्रकार यादव मतदाताओं पर राजद की पकड़ है, वैसे ही कई चुनावों में जद (यू) अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अत्यंत पिछड़े वर्ग के मतदाताओं को अपने पक्ष में करने में कामयाब रहे हैं।

मणिकांत ठाकुर कहते हैं, "बिहार समाजवाद की धरती रही है। पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर के नाम को ही राजनीतिक दल अपने-अपने हिसाब से बांटकर राजनीति करते रहे हैं। इसी के तहत आज भी सभी दल अत्यंत पिछड़ी जातियों को साधने में फिर से जुट गए हैं। राजग के लिए बिहार में गैर-यादव वोट मौजूदा राजनीतिक स्थिति में राजग और महागठबंधन दोनों के लिए काफी महत्वपूर्ण हैं।"

Advertisement
Back to Top