गुवाहाटी : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में रैली के दौरान सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश देख रहा है कि चौकीदार की चौकसी से कैसे भ्रष्‍टाचारी बौखलाए हुए हैं। और रोज नई-नई गाली देते रहते हैं।

पीएम मोदी ने कहा, वहां का तो एक ही मापदंड है, कौन मोदी को ज्यादा गाली दे सकता है। विपक्ष में इसी का कॉम्पटीशन चल रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि इन लोगों की एक ही पहचान है ' महामिलावट' ।

पीएम मोदी ने कहा असम पिछले चार वर्षों में 14,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं के पूरे होने के साथ देश का तेल और गैस का केन्द्र बनेगा।

इसे भी पढ़ें :

नागरिकता विधेयक: असम में पीएम मोदी को फिर दिखाए गए काले झंडे

पीएम मोदी ने कहा कि भारत रत्न जन्म के समय कुछ ppl के लिए आरक्षित किया जाता था, ppl को सम्मानित करने में दशकों लगते थे जिन्होंने राष्ट्र को सम्मान दिलाने के लिए अपना जीवन बिताया। मुझे गर्व महसूस होता है कि भाजपा सरकार के दौरान हमें गोपीनाथ बोरदोलोई और भूपेन हजारिका को भारत रत्न देने का मौका मिला।

असम और घुसपैठियों के देश से छुटकारा पाने के लिए हमने हमेशा पीपीएल की आवाज को मजबूत किया है। इसीलिए हमने चिटमहल समझौता किया और भारत-बांग्लादेश सीमा को पूरी तरह से सील करने की दिशा में काम कर रहे हैं। हमने SC की देखरेख में NRC लागू किया जो पहले सरकारें करने में संकोच कर रही थीं।

पीएम मोदी ने साथ ही कहा, 'नागरिकता संशोधन का विषय सिर्फ असम या नॉर्थ ईस्ट से जुड़ा नहीं है, बल्कि देश के अनेक हिस्सों में मां भारती पर आस्था रखने वाली ऐसी संताने हैं, ऐसे लोग हैं जिनको अपनी जान बचाकर भारत आना पड़ा है।