इटावा (उप्र): प्रगतिशील समाजवादी पार्टी प्रमुख शिवपाल यादव ने शनिवार को यहां कहा कि वह जनता की मांग पर लोकसभा चुनाव फिरोजाबाद से लड़ेंगे। उन्होंने दावा किया कि चुनाव के बाद केंद्र में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के बिना कोई दल सरकार नहीं बना सकेगा। शिवपाल ने स्थानीय धनुआंखेड़ा इण्टर कालेज में गणतंत्र दिवस पर एक समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि लखनऊ में लाखों लोगों के बीच हमने कहा था कि उन्हें कुछ नहीं चाहिए, न पद, न मंत्री, केवल सम्मान चाहिए। लेकिन षड्यंत्र कर उन्हें अलग किया गया।

अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें धोखा दिया गया और मजबूरी में उन्हें प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बनाना पडी। शिवपाल ने सपा-बसपा गठबंधन पर कहा कि बसपा ने सपा को झटका देकर तीन बार भाजपा के सहयोग से सरकार बनाई। उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह को "गुण्डा'', सपा को गुण्डों की पार्टीं तथा उन्हें दुराचारी बताने वाले दल के साथ गठबंधन पिता और चाचा का साफ अपमान है।

यह भी पढ़ें:

शिवपाल बोले : ऐसा है मायावती का चरित्र, चुनाव बाद कर सकती हैं ये काम

अब समाजवादी पार्टी से शिवपाल का कोई नाता नहीं है। लिहाजा शिवपाल ने जमकर भतीजे पर निशाना साधा। उनके मुताबिक जब उन्होंने या मुलायम सिंह ने मायावती को बहन ही नहीं बनाया तो माया अखिलेश की बुआ कैसे हो गईं?

शिवपाल यादव ने लोगों को हिदायत देते हुए कहा, 'बताओ ऐसे लोगों पर विश्वास किया जा सकता है? जो अपने बाप और चाचा को भी धोखा दे, बताओ क्या-क्या नहीं किया मैंने। पढ़ाई से ले करके, क्या-क्या नहीं किया मैंने। नेता जी को कौन कहता था कि मुलायम यादव जी गुंडों के सरदार हैं। एसपी में सारे लोग गुंडे हैं?'

मायावती पर टिप्पणी करते हुए शिवपाल ने कहा, 'वो ही बहन जी हैं, ना नेताजी ने बहनजी बनाया, ना हमने बहनजी बनाया तो अखिलेश की बुआ कहां से बन गईं? और बताओ बुआ का कोई भरोसा है कहां चली जाएं?' बता दें सपा से अलग होने के बाद शिवपाल अब अखिलेश के खिलाफ आक्रामक हो गए हैं।