पंजाब में कांग्रेस नवजोत सिंह सिद्धू पर ले सकती है बड़ा फैसला

नवजोत सिंह सिद्धू - Sakshi Samachar

अमृतसर : 2019 लोकसभा चुनाव का बिगुल तो अभी नहीं बजा है, लेकिन अभी से ही चुनावी योद्धा ताल ठोकते नजर आ रहे हैं। इसी क्रम में पंजाब की राजनीति में बड़े बदलाव के संकेत मिल रहे है। कहा जा रहा है कि कांग्रेस नवजोत सिंह सिद्धू या उनकी पत्‍नी को लेकर बड़ा फैसला कर सकती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नवजोत सिंह सिद्धू अपनी पत्‍नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू को लोकसभा चुनाव में अमृतसर से कांग्रेस टिकट दिलवाना चाहते हैं। वैसे भाजापा के टिकट पर सिद्धू अमृतसर से तीन बार चुनाव जीत चुके है।

सियासी गलियारों में यह भी चर्चा है कि पंजाब के सीएम कैप्टन अमसिंदर सिंह खुद चाहते हैं कि नवजोत सिंह सिद्धू अमृतसर से लोकसभा चुनाव लड़ें। लेकिन आधिकारिक रूप से इस संबंध में अभी तक कोई बयान नहीं आया है।

कांग्रेसियों का दबदबा

अब तक 19 बार हुए लोकसभा चुनाव में अमृतसर लोकसभा सीट से 12 बार कांग्रेसी उम्मीदवार जीते हैं। 2017 के उपचुनाव में यहां से कांग्रेस के गुरजीत सिंह औजला ने जीत हासिल की थी। सबसे अधिक बार आरएल भाटिया यहां से विजयी रहे। वह यहां से छह बार सांसद चुने गए। वह बाद में केरल के राज्यपाल भी रहे।

नवजोत सिंह सिद्धू की भूमिका

सरदार गुरमुख सिंह मुसाफिर ने इन सीट पर सबसे पहले हैट्रिक बनाई। वे 1952, 1957 व 1967 में लगातार विजयी रहे। भाटिया इस सीट पर हैट्रिक तो नहीं बना सके, पर लंबे समय तक अपना दबदबा कायम रखे। नवजोत सिंह सिद्धू ने भाटिया का दबदबा खत्म किया और 2004, 2007 व 2009 में लगातार जीत दर्ज करते हुए हैट्रिक बनाई। 2014 में उनकी टिकट काटकर भाजपा ने अरुण जेटली को मैदान में उतारा। इससे सिद्धू नाराज हो गए और 2016 में भाजपा छोड़ दिए।

सीट के लिए लॉबिंग

अमसिंदर सिंह सरकार में स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के करीबियों की मानें तो वे अपनी धर्मपत्नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू को अमृतसर सीट से आगामी लोकसभा चुनाव में उतारने के लिए लॉबिंग कर रहे हैं। डॉ. सिद्धू की पिछले समय में शहर में बढ़ी सक्रियता भी इस तरफ इशारा करती है।

इसे भी पढ़ें :

अमरिंदर सिंह से मिले सिद्धू, दिया अनोखा उपहार

वहीं वर्तमान कांग्रेसी सांसद औजला भी इस दौड़ में हैं। लेकिन कांग्रेसी विधायकों से उनकी अंदरखाते दूरी अड़चन बढ़ा सकती है। प्रसिद्धू बॉलीवुड अभिनेता राजेश खन्ना परिवार के नजदीकी राजेश रसीन भी कांग्रेस से टिकट के दावेदार जताने की तैयारी में हैं। पहले भी वह पार्टी टिकट के लिए सक्रिय रहे हैं, लेकिन काफी समय से शांत बैठे हुए थे। लोकसभा चुनाव नजदीक आने के बाद फिर सक्रिय हो गए हैं।

अमृतसर विधानसभा में कांग्रेस

अमृतसर लोकसभा सीट के तहत नौ विधानसभा क्षेत्र आते है। इन नौ हलकों में से आठ पर कांग्रेस के विधायक का कब्जा हैं। इनमें से तीन नवजोत सिंह सिद्धू, ओमप्रकाश सोनी और सुखबिंदर सिंह सुखसरकारिया पंजाब सरकार में मंत्री हैं। कांग्रेसी उम्मीदवार के लिए इन हलकों में अपने विधायक होना जहां सुखद रहेगा, वहीं इन सबको साथ लेकर चलना किसी चुनौती से भी कम नहीं होगा।

Advertisement
Back to Top