लखनऊ : समाजवादी पार्टी (एसपी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के गठबंधन में कांग्रेस को एंट्री नहीं मिली है। ऐसे में नए सिरे से रणनीति तैयार करने के लिए कांग्रेस नेता और उत्तर प्रदेश के प्रभारी गुलाम नबी आजाद और अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी रविवार को लखनऊ पहुंच रहे हैं।

गौरतलब है कि एसपी-बीएसपी के इस गठबंधन से उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अकेली पड़ रही है। वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम को अभी भी उम्मीद है कि कांग्रेस इस गठबंधन में शामिल हो सकती है।

उन्होंने कहा, "शायद यही अंतिम बात नहीं है, हो सकता है कि चुनाव से पहले पुनर्विचार हो। उत्तर प्रदेश में एक व्यापक गठबंधन तैयार होगा। अगर जरूरी हुआ तो कांग्रेस पार्टी सिर्फ अपने दम पर ही चुनाव लड़ेगी।"

इसे भी पढ़ें :

सपा-बसपा गठबंधन के बाद अब कांग्रेस से हाथ मिला सकती है आरएलडी!

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अंशू अवस्थी ने बताया, 'गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और अन्य वरिष्ठ नेता रविवार को लखनऊ में होंगे और बैठक करके आगे की रणनीति तय करेंगे।' उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय समिति के उत्तर प्रदेश के सभी नेता और अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सभी सचिव रविवार को एकत्र होंगे।

एसपी-बीएसपी गठबंधन के बारे में सवाल पूछे जाने पर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि वह लखनऊ में राज्य के नेताओं से बैठक के बाद इस पर प्रतिक्रिया देंगे। गुलाम नबी आजाद ने कहा, 'हम आगामी चुनावों की तैयारी के लिए जिले के हिसाब से नेताओं से मिल रहे हैं। पिछले दो दिनों में हमने पश्चिमी यूपी के नेताओं से मुलाकात की है। रविवार को सेंट्रल और बाकी यूपी के नेताओं से मिलेंगे। गठबंधन पर अभी कोई कुछ नहीं कहेगा। अगर कोई कुछ कहता है तो अनाधिकारिक होगा।