लखनऊ : आगामी लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों के लिए समाजवादी पार्टी (एसपी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने शनिवार को गठबंधन का औपचारिक ऐलान कर दिया। अब कहा जा रहा है कि चुनाव अभियान की शुरुआत मायावती और अखिलेश यादव की साझा रैलियों से होगी। इसकी शुरुआत लखनऊ, गोरखपुर, वाराणसी और प्रयाग सहित अन्य प्रमुख शहरों से होगी।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बीएसपी चीफ मायावती अगले एक सप्ताह में यह तय कर लेंगे कि कौन, किस सीट पर चुनाव लड़ेगा। साथ ही दोनों दल साझा चुनाव अभियान की भी रूपरेखा जल्द तय कर लेंगे।

गठबंधन की रूपरेखा से जुड़े सपा के सूत्रों ने शनिवार को बताया कि दोनों दलों के बीच बंटवारे वाली सीटों पर आपसी सहमति लगभग बन गई है। इसकी सार्वजनिक घोषणा बीएसपी प्रमुख मायावती के जन्मदिन (15 जनवरी) के मौके पर या इसके एक दो दिन के भीतर कर दी जाएगी। इससे पार्टी कार्यकर्ता समय रहते चुनावी तैयारियों में जुट सकेंगे। प्रचार अभियान का आगाज अखिलेश और मायावती की उत्तर प्रदेश के प्रमुख शहरों में साझा रैलियों से होगा।

इसे भी पढ़ें :

मायावती ने कांग्रेस संग अनुभवों को किया साझा, इसलिए नहीं बनाया दोस्त

वहीं बसपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, 'इसकी शुरुआत लखनऊ, गोरखपुर, वाराणसी और प्रयाग सहित अन्य प्रमुख शहरों से होगी। दोनों दलों का शीर्ष नेतृत्व चुनाव प्रचार अभियान को जल्द अंतिम रूप देकर रैलियों की जगह और समय का निर्धारण करेंगे।'

गठबंधन में राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) की सीटों को लेकर अभी कोई अंतिम फैसला नहीं होने के बारे में एसपी के एक नेता ने बताया कि कांग्रेस के लिए छोड़ी गई दो सीटों के अलावा आरएलडी के लिए फिलहाल दो सीट छोड़ गई है लेकिन यह अंतिम आंकड़ा नहीं है।