इस विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ेंगे कमलनाथ, जानिए क्यों चुना यह क्षेत्र

रोड शो के दौरान सीएम कमलनाथ - Sakshi Samachar

छिंदवाड़ा : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने तय कर लिया है कि वह किस सीट से विधानसभा का उपचुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि वह छिंदवाड़ा जिले की सौंसर विधानसभा सीट से विधानसभा उपचुनाव लड़ने को प्राथमिकता देंगे। इसके लिए वह सौंसर की जनता से बात करके अंतिम निर्णय लेंगे।

मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार अपने गृह नगर छिंदवाड़ा पहुंचे कमलनाथ ने रोडशो एवं जनसभा को संबोधित करने के बाद यहां संवाददाताओं को बताया, ‘‘मैं सौंसर विधानसभा सीट का वोटर हूं। छिन्दवाड़ा जिले की सात सीटों में से इस सीट पर कांग्रेस सबसे ज्यादा मतों से जीती है। इसलिए मैं चुनाव लड़ने के लिए इसी सीट को प्राथमिकता दूंगा।''

उन्होंने कहा, ‘‘इसके लिए मैं सौंसर की जनता से बात करके निर्णय लूंगा।'' नौ बार छिन्दवाड़ा सीट से सांसद रहे कमलनाथ ने 28 नवंबर को हुए विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ा था। नियम के अनुसार उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के छह माह के अंदर मध्य प्रदेश विधानसभा का सदस्य बनना जरुरी है।

छिंदवाड़ा जिले में विधानसभा की सात सीटें हैं और इनमें से चार सीटें अमरवाड़ा (एसटी), परासिया (एससी), जुन्नारदेव (एसटी) और पांढुर्णा (एसटी) आरक्षित वर्ग के लिये हैं। जबकि कमलनाथ सामान्य वर्ग से ताल्लुक रखते हैं इसलिये वह जिले में तीन बची सामान्य सीटों छिंदवाड़ा, सौंसर और चौरई से ही उपचुनाव में प्रत्याशी बन सकते हैं।

यह भी पढ़ें :

कांग्रेस ने भी ढूंढ ली UP में माया-अखिलेश की काट, जानिए क्या है रणनीति खास

यह है कांग्रेस की रणनीति, जानिए क्यों सिंधिया की जगह कमलनाथ को बनाया मुख्यमंत्री

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर तंज कसते हुए कमलनाथ ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘जनता घोषणाओं से थक चुकी है। इसलिये अब मैं कोई घोषणा नहीं करूंगा। होने वाले कार्यों की संपूर्ण जानकारी जिम्मेदार अधिकारी देंगे और कार्य के पूरा होने की समय-सीमा भी बतायेंगे।''

कमलनाथ ने कहा है कि किसानों, युवाओं और महिलाओं के हितों के संरक्षण और विकास के लिये मध्यप्रदेश सरकार सदैव तत्पर रहेगी। उनकी चुनौतियां अब हमारी होंगी। प्रदेश में कृषि आधारित अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जायेगा। युवाओं के लिये बेहतर रोजगार, महिलाओं की उन्नति और सुरक्षित वातावरण निर्माण के लिये राज्य सरकार वचनबद्ध है।

Advertisement
Back to Top