राजस्थान में यह है मंत्रिमंडल का फार्मूला, इन नेताओं को बनाया जाएगा मंत्री..!

डिजाइन फोटो  - Sakshi Samachar

जयपुर :राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की सत्ता में वापसी के बाद पहले मुख्यमंत्री और अब मंत्रियों के नाम पर अपनी अपनी दावेदारी सिफारिश का सिलसिला चालू हो गया है। ऐसा माना जा रहा है कि सोमवार को नव गठित सरकार के मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है।

अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के खेमे को खुश करने के लिए तरह तरह की कवायदें भी चल रही हैं और माना जा रहा है कि अंतिम सूची फाइनल होने के पहले दोनों खेमे के नेता अपने अपने समर्थकों की सूची लेकर दिल्ली जाएंगे। अशोक गहलोत और सचिन पायलट दिल्ली में राहुल गांधी के साथ मंत्री मंडल के नामों को लेकर चर्चा करेंगे और इसके बाद तय होगा कि कौन-कौन मंत्री बन पाएगा।

कांग्रेस पार्टी से जुड़े सूत्रों की मानें तो प्रदेश के मंत्री मंडल में अशोक गहलोत और सचिन पायलट खेमे में से 15-15 मंत्री बनाए जाने की चर्चा है और उसी में सहयोगी दल व समर्थन देने वाले दल भी शामिल होंगे।

ये हैं संभावित दावेदार

सीपी जोशी, बीडी कल्ला, लालचंद कटारिया, डॉ. जितेन्द्र सिंह, शांति धारीवाल, परसादी लाल मीणा, परसराम मोरदिया, अमीन खान, हेमाराम चौधरी, महेन्द्रजीत सिंह मालवीय, राजकुमार शर्मा, भंवरलाल मेघवाल, बृजेन्द्र सिंह ओला, दीपेन्द्र सिंह शेखावत जैसे अनुभवी विधायकों को जगह मिलनी तय मानी जा रही है। पर हो सकता है आलाकमान के कहने पर एक दो दिग्गजों के नाम कट जाएं।

इसे भी पढ़ें :

सचिन पायलट ने दिखाया अधिकारियों को अपना तेवर, नहीं पसंद आया कार्यालय का लुक

युवा भी कतार में

युवाओं को मौका देने के नाम पर मुकेश भाखर, दिव्या मदेरणा, अशोक चांदना और रामनिवाश गावड़िया का नाम भी जोरों से आगे बढ़ाया जा रहा है।

लोकसभा के लिए ये भी जरूरी

इसके साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि आगामी लोकसभा का चुनाव जीतने के फार्मूले के तहत आरएलडी के डॉ. सुभाष गर्ग, निर्दलीय विधायक महादेव सिंह खंडेला और बसपा से भी दो विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है।

इनको भी है आस

इसके अलावा गोविंद सिंह डोटासरा, महेश जोशी, रघु शर्मा, प्रमोद जैन भाया, हरीश चौधरी, मंजूदेवी मेघवाल, अमीन कागजी, प्रताप सिंह खाचरियावास, रमेश मीणा, मुरालीलाल मीणा, ममता भूपेश, शकुंतला रावत, विजयपाल मिर्धा और दानिश अबरार को भी मंत्री बनाए जाने की संभावना है।हालांकि अंतिम फैसला आलाकमान की मंजूरी के बाद ही किया जाएगा।

Advertisement
Back to Top