केंद्र ने पोलावरम परियोजना में धांधली को सही ठहराया

डिजाइन फोटो - Sakshi Samachar

नई दिल्ली: जल संसाधन विभाग के केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघमाल ने कहा कि पोलावरम परियोजना के निर्माण कार्य को लेकर ठेकेदारों को दी गई भुगतान की राशि में आंध्र प्रदेश सरकार ने धांधलियां बरती हैं। राज्यसभा में सोमवार को YSR कांग्रेस पार्टी के सांसद विजय साई रेड्डी द्वारा पूछे गये सवाल का केंद्रीय मंत्री ने लिखित रूप से जवाब दिया। ठेका प्रणाली की नियमावली की अवहेलना करते हुए आंध्र प्रदेश सरकार ने कुछ ठेकेदारों को दी गई राशि के भुगतान में धांधलियां की। उन्होंने इस राशि को वसूलने के लिए उन्होंने PPP को निर्देश दिया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इन धांधलियों के चलते आंध्र प्रदेश सरकार ब्यौरा देते हुए परियोजना का कार्य तेज गति से करने की फिराक में भूमि अधिग्रहण और स्टील (इस्पात) की खरीदी के साथ संबंधित ठेकेदारों को नियमावली की अवहेलना करते हुए राशि का भुगतान किया। इन धांधलियों में लिफ्त ठेकेदारों के पास से आंध्र प्रदेश सरकार ने वसूल किये।

इसे भी पढ़ें:

चंद्रबाबू ने कमीशन की आस में ली पोलावरम परियोजना की जिम्मेदारी -बुग्गना

पोलावरम हेड वर्कस के ठेके में क्या किसी कंपनी को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से केंद्रीय जल संसाधन विभाग ने अनुमति दी है? इस सवाल का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री मेघवाल ने कहा कि वर्ष 2016 में 16 सितंबर को केंद्रीय वित्त मंत्रालय द्वारा जारी पत्र के अनुसार केंद्र की ओर से पोलावरम परियोजना निर्माण की जिम्मेदारी आंध्र प्रदेश सरकार ने ही निभाई है। इसलिए परियोजना की जवाबदेही आंध्र प्रदेश सरकार की होने पर किसे ठेका दिया जाए, इसका अधिकार आंध्र प्रदेश सरकार को ही होगी। अब तक मिली रपट के अनुसार पोलावरम परियोजना का निर्माण कार्य 60.16 प्रतिशत पूरा हुआ। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पोलावरम परियोजना के हेड वर्कस का कार्य शुरू होने से लेकर धवलेश्वर में क्वालिटी कंट्रोल ने पर्यवेक्षण किया।

Advertisement
Back to Top