नई दिल्ली : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 2012 के कोलायत जमीन सौदे की चल रही जांच के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा को फिर समन भेजा है। सूत्रों से यह जानकारी मिली।

ईडी के एक अधिकारी ने बताया, "हमने वाड्रा को दिसंबर के पहले सप्ताह में एजेंसी के सामने पेश होने के लिए फिर फिर समन भेजा है।"

अधिकारी ने कहा कि वाड्रा के एजेंसी के सामने इस महीने पेश होने से विफल रहने पर फिर समन भेजा गया है।

अधिकारी ने कहा, "वाड्रा अंतिम दिन खुद पेश नहीं हुए और उन्होंने बदले में अपने कानूनी प्रतिनिधि को दस्तावेज के साथ भेजा। हमने वाड्रा को कहा है कि हम उनसे व्यक्तिगत तौर पर पूछताछ करना चाहते हैं, इसलिए उनको एजेंसी के सामने अवश्य प्रस्तुत होना चाहिए।"

यह बोले रॉबर्ट वाड्रा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा ने शुक्रवार को सरकार पर राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले भद्दी चाल चलने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार हताशा में खुल्लम-खुल्ला राजनीतिक व प्रतिशोधात्मक चाल चलने की कोशिश कर रही है। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए सात दिसंबर को मतदान होगा।

वाड्रा ने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा, "पूरी तरह झूठे आरोपों पर आधारित मुझे अचानक मीडिया के सवाल भेजे जा रहे हैं जोकि शायद सरकार द्वारा लीक किए जा रहे हैं क्योंकि राजस्थान में मतदान का दिन समीप है!! दिलचस्प बात यह है कि अधिकांश मसले ऐसे हैं जो विचाराधीन हैं।"

उन्होंने कहा, "क्या यह महज इत्तेफाक है कि सरकार की कुछ एजेंसियों की गतिविधियां बढ़ गई हैं और ऐसे मसले उठाए जा रहे हैं जिनसे मेरा या तो बिल्कुल संबंध नहीं है या मैंने वर्षो पहले ही जवाब दिया है और पिछले चार साल से पूरा सहयोग किया है।"

इसे भी पढ़ेंः

अब बाबा रामदेव यहां बनाएंगे वर्ल्ड क्लास यूनिवर्सिटी, रांची को भी मिली ये सौगात

उन्होंने कहा, "मुझे उम्मीद है कि मीडिया में निष्पक्ष और पेशेवर व्यक्ति राजस्थान में वास्तव में जनता के मसले, जैसे-भारी बेरोजगारी व कुशासन पर ध्यान देंगे।"

वाड्रा ने मीडिया की उस रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया जाहिर की है जिसमें कहा गया है कि वाड्रा की जमीन ऊंची कीमत पर खरीदने के लिए कर्ज देने वाली कंपनी को कर में बड़ी राहत मिली थी।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में कहा गया है कि वाड्रा की कंपनियों की संलिप्तता वाले बीकानेर में विवादित जमीन लेन-देन की जांच कर रही एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय ने आयकर समाधान आयोग से भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड से जुड़ मामले की प्रक्रिया का ब्योरा मांगा है, जिसने एक कंपनी को वाड्रा की कंपनी की जमीन सात गुने महंगे दर पर अधिग्रहण करने के लिए कर्ज दिया था।