“बजरंगबली हैं दलित-वंचित”, भगवान की भी जाति बताने लगे नेता

डिजाइन इमेज - Sakshi Samachar

अलवर: चुनावी सभा को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने हिंदू धार्मिक देवता बजरंगबली को दलित करार दिया। अलवर की सभा में दिए इस बचान पर सीएम योगी की आलोचना हो रही है।

यह भी पढ़ें:

अली-बजरंगबली को लेकर ओवैसी का योगी पर पटलवार, कहा- अली हमारे हैं और हमारे रहेंगे

योगी आदित्यनाथ ने बजरंगबली को दलित, वनवासी, गिरवासी और वंचित करार दिया। इस बयान को लेकर बजरंगबली के भक्त आहत महसूस कर रहे हैं। उनके मुताबिक बजरंगबली वंचित नहीं बल्कि राम नाम जपने वाले सामर्थ्यवान थे।


मुख्यमंत्री योगी ने साफ कहा कि राम भक्त बीजेपी को वोट दें और रावण भक्त कांग्रेस पार्टी को वोट करें। लोगों को भरोसा दिलाया कि बीजेपी सत्ता में आई तो राम राज्य की स्थापना होगी।

बजरंगबली की जाती बताने वाले बयान पर खासकर ब्राह्मण समाज नाराज है। सर्व ब्राह्मण समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंडित सुरेश मिश्रा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कानूनी नोटिस भिजवाया है। जानकार मानते हैं कि पूरे हिंदू समाज की बजरंगबली के लिए गहरी आस्था है। ऐसे में उन्हें दलित बताकर जातिगत कार्ड खेलना कतई जायज नहीं है।

Advertisement
Back to Top