नई दिल्ली : मध्य प्रदेश और मिजोरम में विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग खत्म हो गई है। मिजोरम में लगभग 75 प्रतिशत मतदान हुआ । यह जानकारी राज्य निर्वाचन अधिकारी आशीष कुंद्रा ने दी। वहीं मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में 74.61 प्रतिशत मतदान होने की खबर है।मिजोरम में सभी चालीस सीटों पर शांतिपूर्वक मतदान हुआ।

एमपी की तीन सीटों- बैहर, लांजी, परसवाड़ा पर सुबह 7 बजे से 3 बजे तक वोटिंग हुई, वहीं बाकी की 227 सीटों के लिए आठ बजे से 5 बजे तक वोट डाले गए।

सीईओ कार्यालय के जनसंपर्क अधिकारी राजेश दाहिमा के अनुसार, "दोपहर साढ़े तीन बजे तक राज्य में 52 प्रतिशत से अधिक मतदान हो चुका था। कुल दो करोड़ 65 लाख मतदाता वोट डाल चुके थे। इनमें 1 करोड़ 44 लाख पुरुष और एक करोड़ 20 लाख महिला मतदाताओं ने मतदान किया। सबसे ज्यादा मतदान छिंदवाड़ा और शाजापुर जिले में 61 प्रतिशत, वहीं सबसे कम 40 प्रतिशत मतदान विदिशा में हुआ।"

मतदान के दौरान भिंड जिले के कुछ मतदान केंद्रों में तोड़फोड, गोलीबारी और हिंसा की खबरें आ रही है। वहीं भिंड के तीन विधानसभा क्षेत्रों भिंड, लहार, अटेर के सभी उम्मीदवारों को जिला मुख्यालय में नजरबंद किया गया है।

राज्य के प्रमुख नेताओं में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधनी विधानसभा क्षेत्र के जैत गांव में, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने छिंदवाड़ा जिले के सोंसर विधानसभा क्षेत्र के शिकारपुर में, कांग्रेस प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर के फूलबाग में मतदान किया।

सीईओ कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, "शुरुआत के पांच घंटों में पांच करोड़ चार लाख मतदाताओं में से एक करोड़ 26 लाख से अधिक मतदाता मतदान कर चुके थे।"

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वी. एल. कांताराव ने माना कि प्रदेश में 100 ईवीएम मशीनों को गड़बड़ी के चलते बदला गया। इन मशीनों को आधे घंटे के भीतर बदल दिया गया। इसी तरह 1545 वीवीपैट बदले गए। साथ ही उन्होंने माना कि कई स्थानों से रात में शराब, नकदी बांटने से लेकर विवादों की खबरें आई। इस पर आयोग कार्रवाई कर रहा हैं।

उन्होंने कहा , "मतदान केंद्र पर जब तक मतदाता मौजूद रहेंगे, तब तक मतदान का क्रम जारी रहेगा।"

मतदान को लेकर आम मतदाताओं में उत्साह नजर आ रहा है, मतदान केंद्रों के बाहर मतदान शुरू होने से पहले ही मतदाताओं की कतारें लग गई थी। मतदाताओं की लंबी-लंबी कतारें मतदाताओं के उत्साह को बता रही है। कई स्थानों पर ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी पर मतदाताओं ने नाराजगी जताई। कई स्थानों पर तो मतदाताओं को एक घंटे तक इंतजार करना पड़ा।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए है। केंद्रीय सुरक्षा बलों की 650 कंपनियां तैनात की गई है। इसके अलावा सुरक्षा के लिए हेलीकॉप्टर भी उपयोग में लाए जा रहे है।

4 : 00 PM - मिजोरम के सेरछिप जिले में सबसे ज्‍यादा 74 % मतदान

3 :00 PM- मध्यप्रदेश में 3 बजे तक 50 फीसदी और मिजोरम में 58 फीसदी तक मतदान

2:00 PM - मिजोरम में एक बजे तक 49 प्रतिशत हुआ मतदान

1:30 PM - मध्य प्रदेश में दोपहर एक बजे तक 34.99 फीसदी तक हुआ मतदान।

1: 15 PM- कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के वोट डालने के बाद पोलिंग बूथ के बाहर मीडिया को उंगली लगी स्याही के साथ हाथ का पंजा जिसके बाद बीजेपी ने शिकायत कर दी। मामले पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि जब लोगों ने मुझसे पूछा कि उन्होंने किसे वोट दिया तो मैंने अपना हाथ दिखाया। इससे अलग मैं क्या करता, क्या मैं कमल दिखाता?

12 : 52 PM- मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में बूथ नंबर 230 पर ईवीएम खराब होने से मतदान रूका।

12 : 45 PM - भोपाल पहुंचकर एक्ट्रेस दिव्यांका त्रिपाठी ने डाला अपना वोट

दिव्यांका त्रिपाठी भी अपना वोट डालने पहुंची थी।
दिव्यांका त्रिपाठी भी अपना वोट डालने पहुंची थी।

12 :08 PM -उज्जैन में मतदान कार्य में लापरवाही बरतने के कारण एक सेक्टर अधिकारी को किया गया निलंबित

11:49 AM -मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में 23 फीसदी हुई वोटिंग

11:46 AM- भोपाल में अब तक 19 फीसदी हुई वोटिंग हो चुकी है। एक लाख बीस हजार लोगों ने किया अपने मताधिकार का प्रयोग

11 : 10 AM- चुनाव में ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले अधिकारियों के परिजनों को 10 लाख मुआवजा देगा इलेक्शन कमीशन

11: 00 AM- मिजोरम में 11 बजे तक 29 फीसदी तक हुआ मतदान

10 :45 AM- भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय बग्घी पर सवार होकर वोट डालने पहुंचे

10: 15 AM- मध्यप्रदेश चुनाव में सुबह 9 बजे तक सिर्फ 9.32 फीसदी हुआ मतदान

10 : 05 AM- मध्य प्रदेश के गुना में एक चुनाव अधिकारी की मौत हो गई है। बमोरी के परांठ मतदान केंद्र पर ड्यूटी कर रहे सोहनलाल बाथम की हार्ट अटैक से मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि वह मतदाताओं को लाइन में लगा रहे थे, तभी उन्हें हार्ट अटैक आ गया और उनकी मौत हो गई।

9:45 AM- डाबरा के बूथ नंबर 178 पर ईवीएम को ठीक करकर मतदान फिर से शुरू कराया गया।

9:35 AM- पुलिस ने भोपाल में एक मतदान केंद्र से बीजेपी के पोलिंग एजेंटों से चुनाव प्रचार सामग्री जब्त की क्योंकि यह एक मतदान केंद्र के 200 मीटर के भीतर था। एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है।

9:25 AM- मणिपुर में नौ बजे तक 15 प्रतिशत मतदान होने की खबर

9 : 15 AM- कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मतदाताओं से आज अधिक मात्रा में मतदान करने की अपील की।

9: 10 AM- मध्यप्रदेश के कई जगहों से ईवीएम के खराब होने की खबर सामने आई है। ईवीएम में खराबी के कारण कई जगह मतदान रुका। खरगौन में 3 पोलिंग बूथों पर ईवीएम खराब हुआ। इंदौर, ग्वालियर के बाद अब छतरपुर, महाराजपुर, भिंड और राजगढ़ विधानसभा सीट पर ईवीएम खराब हुआ।

8:48 AM- मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीहोर जिले के बुधनी विधानसभा क्षेत्र के जैत गांव में अपने परिवार के सदस्यों के साथ मतदान किया। इस दौरान उन्होंने एक बार फिर राज्य में सरकार बनाने का भरोसा जताया।

शिवराज सिंह  अपने परिवार के साथ वोट डालने पहुंचे थे।
शिवराज सिंह अपने परिवार के साथ वोट डालने पहुंचे थे।

8: 43 AM- मंत्री यशोधरा राजे ने शिवपुरी विधानसभा सीट से डाला अपना वोट

8:40 AM- कांग्रेस नेता कमलाथ ने छिंदवाड़ा में डाला अपना वोट।

8: 35 AM- मध्यप्रदेश के ग्वालियर में बूथ नं 178 पर ईवीएम में आई खराबी

8 : 20 AM - कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मतदान के दिन बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि कल रात बड़े पैमाने पर पैसे-शराब-साड़ियां बांटी गई हैं। उन्होंने कहा कि जिस प्रशासन को मुस्तैदी से काम करना चाहिए, वह निष्क्रिय बैठा है। दिग्विजय सिंह ने दावा किया कि आज की स्थिति में कांग्रेस को 126-132 सीटें मिलनी चाहिए।

8:12- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश और मिजोरम के मतदाताओं से बड़ी संख्या में वोट करने की अपील की

8:10 AM कांग्रेस नेता कमल नाथ छिंदवाड़ा के हनुमान मंदिर में की पूजा।

8:08 AM- मध्य प्रदेश में कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा कि मुझे मध्य प्रदेश की जनता में पूरा विश्वास है, वे सरल हैं और काफी मासूम हैं, जो बीजेपी द्वारा काफी समय से ठगे जा रहे हैं।

8 : 04 AM- वोटिंग से पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपनी पत्नी के साथ नर्मदा नदी पर जाकर पूजा की।

8:02 AM - मध्यप्रदेश और मिजोरम में नई विधानसभा के सभी सीटों पर मतदान शुरू।

एमपी में शांतिपूर्ण मतदान के सुरक्षा व्यवस्था कड़ी

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, चुनाव में कानून व्यवस्था और शांतिपूर्ण मतदान के उद्देश्य से केंद्रीय सुरक्षाबलों की 650 कंपनियां तैनात की गई हैं। इसके साथ ही प्रदेश के बाहर से आए 33 हजार होमगार्ड भी निर्वाचन ड्यूटी में तैनात किए गए हैं।

राज्य के संवेदनशील जिलों में सुरक्षा बल की ज्यादा कंपनियां तैनात की गई हैं। बालाघाट जिले में केंद्रीय सुरक्षाबलों की 76 कंपनियां, भिंड में 24, छिदवाड़ा और मुरैना में 19-19, सागर और भोपाल में 18-18 कंपनियां तैनात की गई हैं। प्रदेश के 85 प्रतिशत पुलिस बल और होमगार्ड के 90 प्रतिशत बल चुनाव कार्य में तैनात किए गए हैं।

सुरक्षा व्यवस्था के लिये बालाघाट, मंडला और भोपाल में एक-एक हेलीकप्टर तैनात रहेंगे। संचार व्यवस्था बेहतर करने के लिए 20 सेटेलाइट फोन एवं 28 हजार वायरलेस सेट चुनाव में उपयोग किए जा रहे हैं।

भारतीय निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार, संवेदनशील मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग एवं सीसीटीवी की व्यवस्था की गई है। वेबकास्टिंग के माध्यम से 6,655 मतदान केंद्रों पर लाइव प्रसारण और 6,400 मतदान केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरा से विशेष निगरानी की व्यवस्था की गई है। इस कार्य के लिए प्रत्येक मतदान केंद्र पर एक अतिरिक्त व्यक्ति भी नियुक्त किया गया है।

मिजोरम तीसरी बार सरकार बनाने में जुटी कांग्रेस

मिजोरम में यहां कांग्रेस पूर्व मुख्यमंत्री जोरामथांगा की अगुवाई वाले मिजो नेशनल फ्रंट की चुनौती के बीच लगातार तीसरी बार सरकार बनाने के लिए जोर आजमाइश कर रही है।मिजोरम पूर्वोत्तर का एकमात्र ऐसा राज्य है जहां कांग्रेस सत्ता में है। इसके अलावा कांग्रेस पंजाब, केंद्रशासित पुड्डचेरी और कर्नाटक में (जनता दल-एस के साथ) सत्ता में है।

मिजोरम में कुल 209 उम्मीदवार चुनावी मैदान में

मुख्यमंत्री दो सीटों सेरछीप और छंपाई दक्षिण से चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस यहां 1987 में राज्य को पूर्ण दर्जा मिलने के बाद से 1998 से 2008 के बीच के वर्षो को छोड़कर सत्ता में रही है। करीब 7.7 लाख मतदाता 209 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे।यहां अन्य चार राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना के साथ मतों की गिनती 11 दिसंबर को होगी।

कांग्रेस और मिजोनेशनल फ्रंट के बीच मुकाबला

यहां मुकाबला मुख्यत: कांग्रेस और मिजो नेशनल फ्रंट के बीच है, हालांकि भाजपा भी यहां अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाह रही है। केंद्र में वर्ष 2004 में मोदी सरकार के आने के बाद से भाजपा ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में अपना पांव पसारना शुरू किया है और इस ईसाई बहुल इलाके में भाजपा के प्रदर्शन को काफी उत्सुकता के साथ देखा जाएगा।