जयपुर : राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए अपने चुनावी घोषणापत्र की तैयारी में जुटी कांग्रेस ने जनता से राय/सुझाव लेने की औपचारिक शुरुआत शुक्रवार को की। इसके साथ ही पार्टी ने राज्य की वसुंधरा राजे सरकार के वादों व कामकाज पर आधारित ‘रिपोर्ट कार्ड' की श्रृंखला की घोषणा की है और पार्टी ने स्पष्ट किया है कि विधानसभा के लिए उसके प्रत्याशियों की सूची दिवाली के बाद ही आएगी।

प्रदेश की जनता कांग्रेस के घोषणापत्र के लिए अपनी राय दे सकेगी। प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने पार्टी कार्यालय में इसकी शुरुआत की। उन्होंने कहा कि पार्टी एक ऐसे 'जन घोषणापत्र' पर काम करेगी, जिसमें प्रदेश के सभी वर्गों की अपेक्षा व आकांक्षाएं शामिल हों। उन्होंने कहा कि राजस्थान की जनता की अपेक्षाओं और आवाज़ को कांग्रेस अपनी प्राथमिकताओं में शामिल करने हेतु प्रतिबद्ध है।

पार्टी की घोषणापत्र समिति के अध्यक्ष हरीश चौधरी ने बताया कि आम लोग अपने सुझाव व राय नि:शुल्क टेलीफोन नंबर पर मैसेज, कॉल, व्हाटसएप मैसेज या छोटे वीडियो के रूप में दे सकते हैं। पार्टी ने इसके लिए एक नंबर जारी किया है। इसके अलावा पार्टी के फेसबुक पेज पर भी सुझाव दिए जा सकते हैं। यह व्यवस्था सप्ताह भर रहेगी। पार्टी का घोषणापत्र नवंबर के दूसरे पखवाड़े में आने की उम्मीद है।

सचिन पायलट ने बताया कि वसुंधरा सरकार के पांच साल के कार्यकाल के दौरान 'प्रशासन की कथनी और करनी की वास्तविकता को दर्शाने के लिए 'राजस्थान का रिपोर्ट कार्ड' श्रृंखला शुरू की जा रही है। पार्टी इसके तहत मतदान तक भाजपा के हर विधानसभा क्षेत्र में किए कामों की ‘जमीनी हकीकत' को आम जनता तक पहुंचाएगी।

यह भी पढ़ें :

राजस्थान चुनाव के लिए भाजपा ने ‘फाइनल’ किए प्रत्याशियों के नाम

राजस्थान में ‘अपने’ ही बढ़ाएंगे भाजपा की मुश्किल, तीसरा मोर्चा बनाने की तैयारी

उन्होंने कहा, ‘‘रिपोर्ट कार्ड जनता बना रही है और कांग्रेस पार्टी आईना बनकर मुख्यमंत्री राजे व उनकी सरकार को उनका ही रिपोर्ट कार्ड दिखाएगी।''

इसके साथ पायलट ने अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा कि पार्टी के उम्मीदवारों की पहली सूची दिवाली के बाद ही आएगी। उन्होंने संभावित नामों व कसौटी संबंधी तमाम अटकलों को खारिज कर दिया।