अरवल: BJP और RJ(D) के 2019 में एकसाथ चुनाव लड़े जाने की सहमति के बाद बिहार के राजनीतिक गलियारे में एक और गठबंधन की आशंका जताई जा रही है। लोकसभा चुनाव के लिये बिहार BJPऔर RJ(D) के बीच सीटों के बंटवारे के के बाद राजनीतिक गलियारे में हलचल बढ़ गई है।

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष व पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और RLSP प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बीच मुलाकात हुई है। दोनों नेताओं के बीच बंद कमरे में मुलाकात होने की बात सामने आयी है।

संविधान बचाव न्याय यात्रा कार्यक्रम का आयोजन आज अरवल में था। कार्यक्रम समाप्त होने के बाद तेजस्वी यादव सर्किट हाउस पहुंचे थे। उपेंद्र कुशवाहा भी अरवल पहुंचे थे और सर्किट हाउस में मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें :

‘बेघर’ हुए तेजस्वी, जानिए क्यों छोड़ना पड़ेगा सरकारी बंगला

दोनों नेताओं के मुलाकात के बाद कई तरह के कयास लगाये जा रहे है। तेजस्वी की चिराग पासवान से भी फोन पर बातचीत हुई है। RJD पहले भी कह चुका है कि उपेंद्र कुशवाहा NDA में असहज महसूस कर रहे हैं। वह महागठबंधन में आना चाहते हैं।

आप को बता दें कि इससे पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा और जदयू ने बराबर- बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। बाकी साथियों को भी सम्मान जनक जगह दी जायेगी। रामबिलास पासवान और उपेंद्र कुशवाहा को क्रमश: पांच और एक सीट देने की बात हुई है।

इसे भी पढें :

बिहार के मंत्री ने तेजस्वी यादव के खिलाफ दायर किया परिवाद पत्र

मात्र एक सीट मिलने से उपेंद्र कुशवाह नाराज हो गए हैं। उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी RLSP के वर्तमान में तीन सांसद हैं। नाराज उपेंद्र कुशवाहा ने तेजस्वी यादव से मुलाकात की है।

ऐसा लग रहा है कि अब उपेंद्र कुशवाहा RJD के साथ मिलकर चुनाव लड़ सकते हैं। कुशवाहा और तेजस्वी की यह मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है।

हालांकि RLSP प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने तेजस्वी यादव से अपनी मुलाकात को महज एक संयोग बताया है।