नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को आरोप लगाया कि सीबीआई प्रमुख आलोक वर्मा को जबरदस्ती छुट्टी पर भेज दिया गया क्योंकि वह राफेल घोटाले के कागजात इकट्ठा कर रहे थे।

गौरतलब है कि सीबीआई निदेशक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच चल रही तकरार को लेकर, दोनों अधिकारियों से सारे अधिकार वापस ले लिए गए हैं। राहुल ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘सीबीआई चीफ आलोक वर्मा राफेल घोटाले के कागजात इकट्ठा कर रहे थे।

उन्हें जबरदस्ती छुट्टी पर भेज दिया गया।'' उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘प्रधानमंत्री का संदेश एकदम साफ है, जो भी राफेल के इर्द गिर्द आएगा- हटा दिया जाएगा, मिटा दिया जाएगा।'' हालांकि, वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए खारिज कर दिया कि वर्मा को इसलिए हटाया गया है क्योंकि वह राफेल लड़ाकू विमान सौदे की जांच करना चाहते थे।

इसे भी पढ़ें :

सीबीआई विवाद पर बोले जेटली, कहा- सरकार नहीं देगी दखल, SIT करेगी जांच

उन्होंने कहा कि वर्मा और अस्थाना को हटाने का सरकार का फैसला केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की सिफारिशों पर आधारित है। कांग्रेस राफेल सौदे में बड़े पैमाने पर अनियमितता होने का आरोप लगा रही है। वहीं, सरकार इन आरोपों को खारिज कर रही है।