लखनऊ : उत्तर प्रदेश की राजनीति में आये दिन नये-नये बदलाव हो रहे हैं। पिछले दिनों शिवपाल यादव ने नयी पार्टी बनाई थी। अब उनके नक्शे कदम पर चलते हुए कुंडा के बाहुबली निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह (राजा भैया) भी अपनी पार्टी बनाने जा रहे हैं । उन्होंने चुनाव आयोग में आवेदन भी किया है।

उनके साथ राजपूत और दलित समाज के नेता आ सकते हैं। वर्तमान विधायक से लेकर पूर्व सांसद तक शामिल होने की संभावना है। माना जा रहा है कि वह प्रेस कॉफ्रेंस करके अपनी नई पार्टी बनाने का औपचारिक ऐलान कर सकते हैं।

प्रतापगढ़ के बाबागंज से निर्दलीय विधायक विनोद सरोज का राजा भैया के साथ जाना पूरी तरह से तय माना जा रहा है। क्योंकि राजा भैया के रूतबे के दम पर ही विनोद सरोज लगातार चुनाव जीतते आ रहे हैं। सरोज ही लखनऊ में राजा भैया की प्रेस कॉफ्रेंस आयोजित करा रहे हैं।

प्रतापगढ़ से सपा सांसद रहे और मौजूदा विधान परिषद सदस्य (MLC) अक्षय प्रताप सिंह उर्फ गोपाल का भी राजा भैया के साथ जाने की प्रबल संभावना है।

इसे भी पढ़ें :

राज्यसभा चुनाव: यूपी में राजा भैया का खेल जारी, BSP कैंडिडेट को हराने पर तुले

अक्षय प्रताप की जीत में भी राजा का काफी योगदान रहा है। वह राजा भैया के करीबी भी माने जाते हैं। माना जा रहा है कि रघुराज प्रताप सिंह अपनी पार्टी का गठन करके लोकसभा चुनाव 2019 में अपने उम्मीदवार खड़े कर सकते हैं। राजा भैया के कई उत्साही समर्थक नवगठित पार्टी के नाम के साथ उनकी तस्वीर भी सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं।

ऐसा क्या हुआ कि अखिलेश ने कहा - लगता नहीं है कि राजा भैया हमारे साथ हैं, पढ़ें खबर

रघुराज प्रताप सिंह ने 26 साल की उम्र में 1993 में पहली बार कुंडा विधानसभा सीट से निर्दलीय विधायक बने थे। इसके बाद लगातार इसी सीट से निर्दलीय विधायक बनते आ रहे हैं और सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं।

राजा भैया 30 नवंबर को राजनीति में 25 साल पूरे करने जा रहे हैं। इसीलिए 30 नवंबर को ही लखनऊ में एक बड़ा समारोह किया जा रहा है जहां वह अपनी नई पार्टी की घोषणा कर सकते हैं।