नई दिल्ली : मीटू अभियान के बाद विवादों में घिरे केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर की मुश्किलें बढ़ सकती है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि अकबर के खिलाफ लगाए गए यौन शोषण के आरोपों की जांच होगी। साथ ही शाह ने यह भी कहा कि यह भी देखना पड़ेगा कि मंत्री के खिलाफ लगाए गए आरोपों में कितनी सत्यता है।

अमित शाह ने कहा, 'देखना पड़ेगा कि यह सच है या गलत। हमें उस शख्स के पोस्ट की सत्यता जांचनी होगी, जिसने आरोप लगाए हैं। आप मेरा नाम भी इस्तेमाल करते हुए कुछ भी लिख सकते हैं।' हालांकि उन्होंने जांच की बात पर यह कहा, 'इस पर जरूर सोचेंगे।'

इसे भी पढ़ें :

MJ अकबर पर कार्रवाई की उल्टी गिनती शुरू, जानिए कहां हैं इन दिनों?

ओवैसी ने दी मोदी को सलाह, “बेटी बचाओ में रखते हैं यकीन तो इस मंत्री को हटाओ”

अमित शाह के बयान को इसलिए भी अहम माना जा रहा है कि मीटू मुहिम के बाद घिरे एमजे अकबर पर बीजेपी आलाकमान की तरफ से यह पहली प्रतिक्रिया है। एमजे अकबर पर आरोप है कि कई मीडिया संस्थानों में बतौर संपादक काम करते हुए उन्होंने कई महिला पत्रकारों से आपत्तिजनक बर्ताव किया। इससे यह भी संकेत मिल रहे हैं कि पार्टी विवाद को लेकर गंभीर है।

वहीं केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास आठवले ने कहा था कि अगर अकबर के खिलाफ आरोप सही हैं, तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। बता दें कि एमजे अकबर अभी अफ्रीका के दौरे पर हैं और उनके रविवार को देश पहुंचने की संभावना है।