नई दिल्ली: बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक में प्रधानमंत्री ने केंद्र सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। इस दौरान प्रधानमंत्री ने विपक्ष पर परोक्ष निशाना साधते हुए कहा, जो लोग एक दूसरे को देख नहीं सकते, एक साथ चल नहीं सकते, आज वो गले लगने को मजबूर हैं। दरअसल प्रधानमंत्री बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन पर निशाना साध रहे थे।

प्रधानमंत्री के बयानों पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मीडिया को जानकारी दी। पीएम मोदी ने कार्यकारिणी में भावुक होते हुए कहा कि बीजेपी सत्ता को कुर्सी के रूप में नहीं देखती है। बल्कि सत्ता को जनता के बीच में काम करने का उपकरण समझते है ।

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय कार्यकारणी में अपने भाषण में 'अजेय भारत-अटल भाजपा' का नारा दिया। केंद्रीय मंत्री रविशंकार प्रसाद ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हवाले से कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी ने भाजपा के विचार, संस्कार और नेतृत्व को एक नई ऊंचाई दी । आज हमारा सूरज तो चला गया लेकिन हम जो सितारें हैं, उन्हें अपनी चमक बढ़ाकर विचारधारा के प्रकाश को आगे फैलाना है।

भाजपा ने रविवार को अगले लोकसभा चुनाव को दिवास्वप्न देख रहे विपक्ष और उसके गठबंधन की लड़ाई के रूप में पेश करते हुए जोर दिया कि राजग गठबंधन के नेता नरेन्द्र मोदी की स्वीकार्यता 70 प्रतिशत से अधिक है और सरकार 2022 तक न्यू इंडिया के निर्माण को कृतसंकल्प है। "आओ मिलकर कमल खिलायें'' का संकल्प लेते हुए भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारणी की आज यहां हुई बैठक में इस बात पर जोर दिया गया कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव में जीत के लिये पार्टी के पास "नेता, नीति और रणनीति'' है जबकि हताश विपक्ष नकारात्मक राजनीति में लगा हुआ है। भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारणी के दूसरे दिन वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यहां संवाददाताओं को बताया कि बैठक में वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने एक राजनीतिक प्रस्ताव रखा जिसको कार्यसमिति ने पास किया ।

यह भी पढ़ें:

भाजपा ने लिया 2014 से भी अधिक बहुमत से जीतने का संकल्प, ‘अजेय भाजपा’ का नारा अंगीकार

इस प्रस्ताव में विश्वास जताया गया है कि न्यू-इंडिया का सपना पूरा होकर ही रहेगा । केंद्रीय मंत्री ने बताया कि राजनीतिक प्रस्ताव में कहा गया है कि प्रधानमंत्री ऐसे भारत का निर्माण कर रहे हैं जहां गरीबी, जातपात, भ्रष्टाचार और साम्प्रदायिकता नहीं हो जबकि विपक्ष का एकमात्र एजेंडा ‘मोदी रोको' है। प्रस्ताव में कहा गया है कि देशभर में आंतरिक सुरक्षा की स्थिति सुधारने में काफी सफलता मिली है और कांग्रेस नीत संप्रग के शासन की तुलना में भारत के शहरों में अब आतंकी गतिविधियों पर पूरी तरह से रोक लगी है । उन्होंने दावा किया कि पहले बम विस्फोट की घटनाएं अक्सर सुनाई देती थीं । जावड़ेकर ने कहा कि प्रस्ताव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व की प्रशंसा की गई और कहा गया कि मोदी के ‘करिश्माई नेतृत्व, सोच, एवं लगन तथा शाह के परिश्रम से भाजपा का विस्तार हुआ है और आज 19 राज्यों में पार्टी की सरकारें हैं। उन्होंने कहा कि मोदी और शाह की जोड़ी के तहत पार्टी के 350 सांसद और करीब 1500 विधायक है। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास' के मंत्र के आधार पर काम कर रही है और मोदी की स्वीकार्यता 70 प्रतिशत हो गई है जो 2022 तक न्यू इंडिया के निर्माण को कृत संकल्पित हैं । वर्ष 2019 में जीत का दावा करते हुए उन्होंने कहा, "हमारे पास कार्यक्रम है, नीति है, नेता है और रणनीति है । जबकि विपक्ष के पास ना कोई नेता है, ना कोई नीति है और ना ही कोई रणनीति है।'' भाजपा ने जोर दिया कि हताश विपक्ष नकारात्मकता की राजनीति कर रहा है।

बैठक में आज 'आओ मिलकर कमल खिलायें' का संकल्प लिया गया । उन्होंने कहा कि ऐसे में विपक्ष महागठबंधन जैसा विकल्प ढूंढ रहा है। विपक्ष के पास मोदी जैसा कोई नेता नहीं है और उसका एक मात्र लक्ष्य "मोदी रोको" है। इसीलिए विपक्ष अनैतिक गठबंधन की बात कर रहा है। राजनीतिक प्रस्ताव में बताया है कि किस प्रकार आज देश में नवोन्मेष की संस्कृति शुरू हुई है जहां खुद की तरक्की करते हुए लोग देश की तरक्की में सहभागी हो रहे हैं।

प्रस्ताव में कहा गया है कि वर्ष 2022 तक देश से जातिवाद, संप्रदायवाद, आतंकवाद और नक्सलवाद खत्म होगा । प्रस्ताव के मुताबिक, केंद्र सरकार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है जिसकी वजह से उन्हें देश छोड़कर भागना पड़ रहा है । आर्थिक मोर्चे के संदर्भ में जावड़ेकर ने बताया कि पिछले चार वर्षों में अर्थव्यवस्था से लेकर शिक्षा, आंतरिक सुरक्षा, गरीब कल्याण, आर्थिक समावेशीकरण समेत विभिन्न क्षेत्रों में सरकार ने काफी काम किया है और "इसके आधार पर 2022 तक न्यू इंडिया का संकल्प पूरा होगा। ''भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में देश के आर्थिक पहलुओं पर भी चर्चा हुई।

प्रस्ताव में कहा गया है कि चार वर्ष पहले एक कमजोर अपारदर्शी और पूर्णतः पूंजीवादी अर्थव्यवस्था विरासत में मिली थी और भाजपा नीत सरकार ने इसमें मूलभूत सुधार किए और कड़े कदम उठाए । नोटबंदी तथा जीएसटी ने अर्थव्यवस्था में अभूतपूर्व सुधार किए है । पेट्रोल की कीमतों के बारे में एक सवाल के जवाब में जावड़ेकर ने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर एक सही नीति के आधार काम कर रही है। पार्टी का कहना है कि थोड़ी सी परेशानियों के बाद अर्थव्यवस्था अब तेजी से बढ़ रही है और आज भारत दुनिया की सबसे तेज गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था के साथ दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। जावड़ेकर ने बताया कि बैठक में जनधन योजना का भी जिक्र आया जिसमें अब हर प्रौढ़ व्यक्ति का खाता खोलने की बात कही गई है। इसे वित्तीय समावेशीकरण की मजबूत पहल बताया गया । इसके साथ ही जीएसटी से जुड़ी समस्याओं को एक साल की अवधि में दूर किया गया है। भाजपा नेता ने जोर दिया कि बैंकों के राष्ट्रीयकरण के 47 साल बाद जो काम नहीं हुआ, वह काम पिछले 47 महीने में हुआ है। पहले संप्रग के शासनकाल में महंगाई दर 10 प्रतिशत के आसपास रहती थी जबकि मोदी सरकार के दौरान महंगाई दर 5 प्रतिशत से नीचे रही है। आंतरिक सुरक्षा के संदर्भ में राजनीतिक प्रस्ताव में कहा गया है कि जब आंतरिक सुरक्षा की स्थिति मजबूत होती है तभी देश तरक्की करता है।