जम्मू-कश्मीर: पीडीपी नेता मुजफ्फर हुसैन बेग ने धमकी भरे लहजे में बयान दिया है। उनके मुताबिक देश में गाय और भैंसों के नाम पर मुसलमानों का कत्लेआम बंद होना चाहिए।

बेग ने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो नतीजे अच्छे नहीं होंगे। पीडीपी नेता ने आगे जोड़ा कि सन् 1947 में देश का एक बार टुकड़ा हो चुका है। इस तरह की घटनाएं जारी रहीं तो बेग के मुताबिक भारत का विखंडन हो सकता है।

हालांकि बेग के बयान को अलगाववादी विचारधारा से जोड़कर देखा जा रहा है। इसके साथ ही पीडीपी नेता की आलोचना भी शुरू हो गई है।

गोरक्षा के नाम पर जारी हिंसा की हिमायत सार्वजनिक या निजी मंच से कतई नहीं की जा सकती। ना ही देश का संविधान इस तरह की इजाजत देता है। ऐसे में इन घटनाओं का हवाला देते हुए देश के टुकड़े करने की बात कहना अपने आप में सनसनीखेज है।

यह भी पढ़ें:

महबूबा ने केंद्र सरकार पर लगाया जोड़-तोड़ का आरोप, कहा- 90 के दशक जैसे हो जाएंगे हालात

खुलकर कहें तो मुजफ्फर बेग ने सभा को संबोधित करते हुए देश के दूसरे बंटवारे की धमकी दे दी।

सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया देते हुए कुछ लोगों ने पीडीपी नेता की तीखी आलोचना की है।

कुछ लोगों ने टिप्पणी की कि पहले बंटवारे के समय गांधी और नेहरू थे...अब न वे नेता रहे और ना ही देश में ऐसी परिस्थिति। एक मुस्लिम फॉलोवर जैद हामिद ने लिखा, 'बांग्लादेश में तो वैसे ही रोहिंग्या है, ऐसे में आप कहां जाएंगे?'