पटना : बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यहां गुरुवार को कहा कि सरकार मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच की निगरानी पटना उच्च न्यायालय से करने का आग्रह करेगी।

उन्होंने लालू प्रसाद परिवार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि लालू परिवार का भरोसा सीबीआई पर बढ़ा है, यह खुशी की बात है। उन्होंने उम्मीद जताई की सीबीआई को गाली देने वाला लालू परिवार अब रेलवे टेंडर घोटाले में कार्रवाई होने पर यूटर्न नहीं लेगा।

इसे भी पढ़ें

बिहार : सुशील मोदी के काफिले पर हमला, RJD कार्यकर्ताओं पर आरोप

मोदी ने कहा, "मुजफ्फरपुर बालिका गृह में यौन शोषण मामले में पुलिस पूरी मुस्तैदी से कार्रवाई कर रही थी। 11 आरोपितों में से 10 को गिरफ्तार किया जा चुका है। परंतु विपक्ष इस मामले में भ्रम फैला रहा था, इसलिए मुख्यमंत्री ने सीबीआई जांच की अनुशंसा कर यह स्पष्ट कर दिया है कि सरकार की मंशा किसी को बचाने और फंसाने की नहीं है।"

उन्होंने कहा कि लालू परिवार की ओर से सृजन घोटाले और मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले में सीबीआई जांच की मांग से यह साफ हो गया है कि जांच एजेंसी पर उनका भरोसा बढ़ा है। उम्मीद है कि रेलवे टेंडर घोटाले व अन्य बेनामी संपत्ति के मामले में अब सीबीआई की कार्रवाई पर लालू परिवार यूटर्न लेकर यह नहीं कहेगा कि सीबाआई ने राजनीतिक दुर्भावना व बदले की भावना से उन्हें फंसा दिया है।

इसे भी पढ़ें

मुजफ्फरपुर कांड : तेजस्वी ने नीतीश कुमार से किए ये प्रश्न, क्या जवाब दे पाएंगे ‘सुशान बाबू’ ?

उन्होंने रालोसपा के प्रमुख व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के बयान कि 'नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री का पद छोड़ देना चाहिए' पर कहा कि राजग के एक घटक दल की ओर से वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव को लेकर दिए गए बयान से भाजपा सहमत नहीं है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि यह व्यक्ति विशेष का विचार हो सकता है।