देखने लायक है ‘मिशन मंगल’, विद्या की एक्टिंग ने दिल जीता 

फिल्म मिशन मंगल  - Sakshi Samachar

कलाकार: अक्षय कुमार, विद्या बालन, तापसी पन्‍नू, कीर्ति कुल्‍हारी, सोनाक्षी सिन्‍हा, नित्‍या मेनन, शरमन जोशी

निर्देशक: जगन शक्‍त‍ि

आज 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अक्षय कुमार की फिल्म मिशन मंगल रिलीज हुई है। फिल्म में भारत के मंगल ग्रह पर पहुंचने का सफर दिखाया गया है कि कैसे इसरो के वैज्ञानिक इस मिशन को सफल बनाते हैं।

अक्षय के साथ इस फिल्म में उनकी लेडी गैंग दिखाई गई है जो अपने अनोखे दिमाग और स्टाइल से इस मिशन को सफल बनाती है।

5 नवंबर 2013 को मंगल ग्रह की परिक्रमा करने के लिए एक उपग्रह आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से PSLV सी-25 के द्वारा सफलतापूर्वक छोड़ा गया। इसी के साथ भारत विश्व में अपने प्रथम प्रयास में ही सफल होने वाला पहला देश बन गया।

फिल्म मिशन मंगल में अक्षय कुमार, विद्या बालन के साथ पूरी टीम 

यह हर भारतीय के लिए गर्व करने वाला क्षण रहा। अब इसी गौरवमयी क्षण को बड़े पर्दे पर उतारा है निर्देशक जगन शक्ति ने। चूंकि यह विज्ञान से जुड़ा विषय है इसलिए निर्देशक ने रचनात्मक आज़ादी भी ली है और कहानी को मनोरंजक तरीके से सामने रखा है।

कहानी :

फिल्म की कहानी की शुरूआत में अक्षय कुमार (राकेश धवन) एक सैटेलाइट लॉन्च करते हैं मगर विद्या बालन (तारा) की एक गलती की वजह से वह लॉन्च फेल हो जाता है। जिसका सारा इल्जाम राकेश अपने ऊपर ले लेते हैं।

इसके बाद इसरो में एंट्री होती है नासा के वैज्ञानिक दिलीप ताहिर (रुपर्ट देसाई) की जो राकेश के द्वारा की गई हर चीज पर सवाल उठाते हैं। इसके बाद राकेश को 2022 में होने वाले मार्स मिशन में डाल दिया जाता है।

जो उस समय लगता है कि नामुमकिन था। मगर किसे पता था इस मार्स मिशन को सफल बनाया जा सकता है। विद्या बालन अपने घरेलू तरीके से भारत के मंगल पर जाने का मॉडल बनाती हैं। इसे राकेश इसरो के हैड सामने पेश करते हैं ।

पहले तो इस तरीके पर कोई विश्वास नहीं करता है मगर इसके बाद सब अक्षय और विद्या के फेवर में होने लगता है और उनकी टीम में लोगों को शामिल किया जाता है और शुरू हो जाती है भारत के मंगल पर जाने क तैयारी। इसी बीच सभी को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है मगर सब इसे संभाल लेते हैं।

अभिनय :

अक्षय कुमार का काम बढ़िया है पर विद्या बालन बहुत सी जगहों पर उन्हें पीछे छोड़ देती हैं। विद्या का काम और उनकी कही कुछ बातें आपके दिमाग में जरूर बस जाएंगी।

विद्या पहले फ्रेम से लेकर अंत तक अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करती हैं। उनका जोश, उत्साह, लगन, डर, उम्मीद, बेचैनी सब कुछ बेहद संजीदगी से दिखाया गया है। बाकी मुख्य स्टारकास्ट भी अपने किरदारों में सराहनीय रहे हैं।

फिल्म मिशन मंगल में अक्षय कुमार

नित्या मेनन ने इस फिल्म से बॉलीवुड में कदम रखा है और अपने किरदार के साथ पूरा न्याय किया है। फिल्म की कहानी सभी के व्यक्तिगत जीवन से होते हुए चलती है, लिहाजा किसी एक किरदार के पास निर्देशक ने ज्यादा समय नहीं लिया है। संजय कपूर, दिलीप ताहिल और विक्रम गोखले भी अपने संक्षिप्त किरदारों में जंचे हैं।

निर्देशन :

निर्देशक जगन शक्ति का काम बेहतरीन भले ना हो, लेकिन अच्छा जरूर है। उन्होंने साइंस, टेक्नोलॉजी और स्पेस जैसी चीजों को बहुत सरल भाषा में जनता के सामने प्रस्तुत किया है।

इस फिल्म से बेहतर आपको शायद ही कोई मार्स ऑर्बिटर मिशन यानी मंगलयान मिशन को इतने अच्छे से समझा सकता है। फिल्म में बहुत से इमोशनल पल हैं और क्लाइमेक्स आपको अपने से ऐसा जोड़ता है कि आप खुद पर गर्व करने लगते हैं।

वैसे फिल्म ज्यादातर इसरो के इर्द-गिर्द दिखाई गई है। सिनेमेटोग्राफी काफी अच्छी है। सैटेलाइट के मंगल पर जाने के सीन्स को काफी शानदार तरीके से दिखाया गया है। ये कुछ सीन्स हैं जो दर्शकों को बांधकर रखते हैं।

फर्स्ट हाफ स्लो और सेकेंड हाफ बढ़िया है

संगीत की बात करें तो फिल्म में दो गाने हैं और दोनों अच्छे हैं। एडिटिंग, सिनेमाटोग्राफी और ग्राफिक्स बढ़िया हैं। ये फिल्म आपको अपने साथ जोड़कर रखती है, जो कि बेहद जरूरी था।

इसे भी पढ़ें :

दो फिल्मों से ही बॉलीवुड में छा गई सारा अली खान, ऐसे देती हैं फिटनेस और ब्यूटी पर ध्यान

हालांकि इसकी कमी है कि ये स्लो है। फिल्म का फर्स्ट हाफ बहुत स्लो है, लेकिन इसका सेकंड हाफ बढ़िया है. इसके अलावा फिल्म में सस्ते जोक्स हैं, जो या तो बेहतर होने चाहिए थे या फिर ना ही होते तो अच्छा था।

क्यों देखें :

इस फिल्म में टैक्नोलॉजी को बहुत आसान तरीके से समझाया गया है जिसे आम इंसान आसानी से समझ सकता है। 15 अगस्त के मौके पर भारत के मंगल पर जाने की कहानी पर्दे पर दिखाई गई है। इस कहानी को जानने के लिए आप इसे देख सकते हैं।

क्यों न देखें :

फिल्म की कहानी सभी को पता ही है। मगर इसे एंटरटेनिंग बनाने के चक्कर स्क्रिप्ट खोई हुई लगती है। जो आपको बांध नहीं पाती है। ओवरड्रामेटिक होने की वजह से आप कहानी से कनेक्ट नहीं कर पाते हैं।

Advertisement
Back to Top