• फिल्म- केदारनाथ
  • निर्देशक- अभिषेक कपूर
  • स्टारकास्ट- सुशांत सिंह राजपूत, सारा अली खान, पूजा गौर, नितीश भारद्वाज
  • सर्टिफिकेट- U/A
  • रेटिंग्स- 3.5

मुंबई: फिल्म केदारनाथ को विवादित मानते हुए उत्तराखंड सरकार ने इस पर बैन लगा दिया है। हालांकि फिल्म को लेकर दर्शकों की मिलीजुली प्रतिक्रिया मिल रही है।

सारा अली खान की डेब्यू फिल्म केदारनाथ पर दर्शकों की मिली जुली प्रतिक्रिया दर्ज की गई है। सैफ अली खान और अमृता सिंह की बेटी सारा अली खान के बॉलीवुड डेब्यू का सभी बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। ये इंतजार खत्म हुआ और सिने प्रेमियों ने सारा अली खान के अभिनय को खूब पसंद किया। सारा के अपोजिट सुशांत सिंह राजपूत हैं। जबकि फिल्म के निर्देशक अभिषेक कपूर हैं जिन्होंने खूब मेहतन तो की, लेकिन कहानी कमजोर पड़ गई।

क्या है फिल्म की कहानी?

केदारनाथ फिल्म दरअसल लव स्टोरी है। साल 2013 में आए केदारनाथ प्रलय से जोड़कर फिल्म की कहानी का ताना बाना बुना गया है। फिल्म युगल जोड़ी के प्यार, इकरार, तकरार जैसे कई मसाले डाले गए हैं। कहानी की शुरुआत हिंदू पंडित की बेटी मुक्कू (सारा अली खान) से शुरू होती है जो एक मुस्लिम पिट्ठू को अपना दिल दे बैठती है। दो अलग धर्मों के युगल जोड़ों के प्रेम को लोग पसंद नहीं करते हैं और विवाद होता है।

यह भी पढ़ें:

रिलीज से पहले मुश्किल में पड़ी फिल्म केदारनाथ, हाईकोर्ट तक पहुंचा मामला

सारा अली खान का शानदार अभिनय

फिल्म देखने की अगर सबसे बड़ी वजह पूछी जाय तो वो है सारा अली खान का शानदार अभिनय। सारा की खूबसूरती नैचुरल लगती है और उनकी बेबाक अदाएं बरबस दिल को छू जाती है। कुछ लोगों को सारा में मां अमृता सिंह की झलक भी दिख जाएगी।

वहीं सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्म में एक पिट्ठू का किरदार निभाया है। फिल्म के लिए सुशांत ने काफी मेहनत की है।

फिल्म को सबसे पहले इसे सारा अली खान के लिए देखिए. मूवी को देखने के बाद जो चीज सबसे ज्यादा आपके दिमाग पर छाप छोड़ती है वो है सारा अली खान. सारा नैचुरली जितनी खूबसूरत और बेबाक हैं परदे पर भी उनकी खूबसूरती और बेबाकपन साफ़ झलकता है. फिल्म देखकर लगता ही नहीं की ये उनकी पहली फिल्म है. फिल्म के एक एक सीन में सारा कॉन्फिडेंटऔर दमदार दिखीं. इसके अलावा सुशांत सिंह राजपूत ने भी इस पूरी फिल्म में काफी मेहनत की है. सुशांत ने शारीरिक तौर पर काफी मेहनत की है. फिल्म में वो एक पिट्ठू के किरदार में हैं.

फिल्म की लचर कहानी को लेकर दर्शकों में थोड़ी निराशा है। खासकर क्लाइमेक्स को और दिलचस्प बनाया जा सकता था। कुल मिलाकर सारा अली खान का बेजोड़ अभिनय आपको फिल्म से बांधे रख सकता है।