मुंबई : घरेलू शेयर बाजार में इस सप्ताह बिकवाली का भारी दबाव बना रहा जिसके चलते प्रमुख शेयर संवेदी सूचकांकों में पिछले सप्ताह के मुकाबले तकरीबन दो फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। पिछले सप्ताह आम बजट 2019-20 पेश होने के बाद भारतीय शेयर बाजार में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों की बिकवाली का दबाव बना रहा, जिससे सेंसेक्स इस कारोबारी सप्ताह फिसलकर 39,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे बंद हुआ और निफ्टी भी 11,550 के करीब रहा।

इस कारोबारी सप्ताह के आखिरी सत्र में शुक्रवार को बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह की क्लोजिंग से 777.16 अंकों यानी 1.97 फीसदी लुढ़क कर 38,736.23 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी भी पिछले सप्ताह के मुकाबले 258.65 अंकों यानी 2.19 फीसदी का गोता लगाते हुए 11,552.50 पर बंद हुआ।

बीएसई मिड-कैप और स्मॉल-कैप सूचकांकों में भी भारी गिरावट रही। मिड-कैप सूचकांक 171.77 अंकों यानी 1.17 फीसदी नीचे आकर 14,553.88 पर बंद हुआ। बीएसई-स्मॉल कैप सूचकांक 365.25 अंकों यानी 2.58 फीसदी लुढ़क कर 13,776.58 पर बंद हुआ।

ये भी पढ़ें: शेयर बाजार में 793 अंकों की गिरावट के साथ ‘हाहाकार’, निफ्टी 2 फीसदी फिसला

बजट में अधिक दौलतमंद आयकर दाताओं पर सरचार्ज बढ़ाए जाने, बायबैक टैक्स लगाने और सूचीबद्ध कंपनियों में पब्लिक होल्डिंग बढ़ाने के प्रस्ताव से निवेशकों का मनोबल टूटा।

घरेलू शेयर बाजार में सप्ताह की शुरुआत मंदी के माहौल में हुई जब बिकवाली का दबाव होने के साथ-साथ विदेशी बाजार के संकेत भी उत्साहवर्धक नहीं रहे, जिससे प्रमुख संवेदी सूचकांकों में भारी गिरावट दर्ज की गई।

सेंसेक्स सोमवार को 792.82 अंकों यानी 2.01 फीसदी लुढ़क कर 38,720.57 पर बंद हुआ। निफ्टी भी 352.55 अंकों यानी 2.14 फीसदी की गिरावट के साथ 11,558.60 पर बंद हुआ।

अगले दिन मंगलवार को बाजार में काफी उतार-चढ़ाव रहा और सेंसेक्स महज 10.25 अंकों की बढ़त के साथ 38,730.82 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 2.70 अंक फिसलकर 11,555.90 पर रहा।

कारोबारी सत्र के तीसरे दिन बुधवार को फिर अमेरिका-चीन व्यापारिक मदभेद को लेकर नई चिंता पैदा होने से बाजार पर दबाव दिखा जिससे सेंसेक्स पिछले सत्र से 173.78 अंकों यानी 0.45 फीसदी की गिरावट के साथ 38,557.04 पर बंद हुआ। निफ्टी भी 57 अंक फिसलकर 11,498.90 पर बंद हुआ।

अगले दिन गुरुवार को विदेशी बाजारों से तेजी का रुझान मिलने से लिवाली बढ़ने के कारण सेंसेक्स 266.07 अंकों यानी 0.69 फीसदी चढ़कर 38,823.11 पर बंद हुआ। निफ्टी भी 84 अंकों यानी 0.73 फीसदी की बढ़त के साथ 11,582.90 पर बंद हुआ।

हालांकि कारोबारी सप्ताह के आखिरी सत्र में शुक्रवार को यह तेजी नहीं टिक पाई और भारी-उतार चढ़ाव का क्रम जारी रहने के बाद सत्र के आखिर में सेंसेक्स 86.88 अंकों यानी 0.22 फीसदी की गिरावट के साथ 38,736.23 पर बंद हुआ। निफ्टी भी 30.40 अंक यानी 0.26 फीसदी फिसलकर 11,552.50 पर बंद हुआ।